संगत जीवन की रंगत को बदल देती है: गच्छाधिपति नित्यानंद सूरीश्वरजी म.सा.

संगत जीवन की रंगत को बदल देती है: गच्छाधिपति नित्यानंद सूरीश्वरजी म.सा.

SHARE

गुंदोज। गच्छाधिपति आचार्य विजय नित्यानंद सूरीश्वरजी म.सा. ने कहा कि मनुष्य की संगत जीवन की रंगत बदल देती है। गच्छाधिपति गुंदोज कस्बे में आयोजित धर्मसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मनुष्य ही नहीं पशु-पक्षी, कीड़े व पतंगे आदि पर भी संगती का प्रभाव पड़ता है। मनुष्य तो संसार में सर्वश्रेष्ठ प्राणी है उस पर तो ऐसी बुरी संगती का प्रभाव पड़ेगा। इसमें कोई आश्चर्य नहीं होगा। उन्होंने कहा कि पानी की कोई कीमत नहीं होती, लेकिन पानी को दूध में मिलाया जाए तो वह दूध के भाव बिकता हैं। घी की अपेक्षा तेल सस्ता होता है परंतु तेल को घी के साथ मिलाया जाता है तो वह घी के भाव बिकता है। इसी प्रकार व्यक्ति जैसी संगत करेगा, उसका प्रभाव उसके ऊपर जरुर पड़ेगा। इसलिए व्यक्ति को अच्छे लोगों के साथ संगत करनी चाहिए व बुरी संगत से बचना चाहिए। इस मौके पर मुनि मोक्षानंद विजय, महानंद विजय मोक्षेशविजय, साध्वी पूर्ण प्रज्ञा, सिद्ध प्रज्ञा, हर्षित प्रज्ञा गुंदोज जैन संघ अध्यक्ष भंवरलाल सहित कई लोग मौजूद थे।