राजस्थान का रेल विकास तेज होगा – रेल मंत्री

राजस्थान का रेल विकास तेज होगा – रेल मंत्री

SHARE

मुंबई। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा है कि अगले तीन सालों में देश में सारी मीटरगेज रेलवे लाइनों को ब्रोडग़ेज में तब्दील कर दिया जाएगा। देश में एक किलोमीटर भी मीटरगेज लाइन नहीं रहेगी। रेल मंत्री ने यब बात राजस्थान मीटरगेज प्रवासी संघ के प्रतिनिधि मंडल को यह जानकारी देते हुए कहा कि इससे राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र एवं दक्षिण राज्यों से रेल संपर्क तेज होगा। उन्होंने प्रवासी संघ को विश्वास दिलाया कि राजस्थान की रेल समस्याओं के निस्तारण में रेल मंत्रालय कई कसर नहीं रखेगा। मुंबई में बांद्रा कार्टर रोड़ स्थित रेलवे अतिथि गृह में राजस्थान मीटरगेज प्रवासी संघ के साथ एक विशेष बैठक में रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने यह भी कहा कि दिल्ली -अमदाबाद रेललाइन के राजस्थान में दोहरीकरण का काम भी शीघ्र ही पूरा करने की कोशिश की जा रही है।

Meterguage1महाराष्ट्र विधानसभा के मुख्य सचेतक राज के पुरोहित के नेतृत्व में रेल मंत्री से मिले प्रवासी संघ के प्रतिनिधि मंडल में महामंत्री विमल रांका, उपाध्यक्ष सुकन परमार, सचिव निरंजन परिहार एवं सिद्धराज लोढ़ा सहित सज्जन रांका एवं नरेंद्र मांडोत ने रेल मंत्री को राजस्थान की समस्याओं से निपटने के लिए एक ज्ञापन भी दिया। रेल मंत्री ने मुंबई एवं दक्षिण भारत से राजस्थान की कनेक्टीविटी बढ़ाने का भी आश्वासन दिया। रेलमंत्री ने बताया कि देश में 16500 किलोमीटर लंबे मीटरगेज को जल्द ही ब्रॉडग़ेज में तब्दील करने के लिए योजना लागू कर दी गई है। शीघ्र ही रेलमार्गों के इलेक्ट्रिफिकेशन की भी योजना तैयार की जा रही है। उन्होंने कहा कि मीटरगेज रेल लाइन की समाप्ति के बाद देश के सभी राज्यों में रेल की सुविधाएं बढ़ेगी एवं कनेक्टीविटी भी बढ़ेगी। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने राजस्थान मीटरगेज प्रवासी संघ को पिषले 40 सालों से रेल विकास के लिए लगातार काम करने के लिए बधाई दी एवं कहा कि प्रवासी संघ का संघर्ष अब पूरा हो रहा है। उन्होंने आगामी जून महीने में प्रवासी संघ के मुंबई में होनेवाले 40वें स्थापना दिवस समारोह में उपस्थित होने की हामी भरी। इस मौके पर रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। रेलमंत्री ने सामाजिक संस्थाओं के जरिए विकास के काम में सक्रिय रहने के लिए राज के पुरोहित की प्रशंसा की। उन्होंने रेल अधिकारियों को प्रवासी संघ द्वारा की गई राजस्थान रूट की रेल विकास से संबद्ध मांगों पर तत्काल विचार करके उनके निस्तारण के निर्देश दिए।