श्री आनंदधाम तीर्थ घसोई में गच्छाधिपति आचार्य श्री दौलतसागर सूरीश्वरजी म.सा. की...

श्री आनंदधाम तीर्थ घसोई में गच्छाधिपति आचार्य श्री दौलतसागर सूरीश्वरजी म.सा. की पावन निश्रा में उपधान तप का आयोजन संपन्न

SHARE

उपधान तपस्वियों को तीर्थ परिसर में पारणा होगा। इस मौके पर सभी का तीर्थ पेढ़ी द्वारा बहुमान किया जाएगा। आनंद धाम तीर्थ में चातुर्मास के लिए संतों ने १० जुलाई को प्रवेश किया था। सुवासरा के लिए विहार होगा। इसके बाद वे नागेश्वर तीर्थ होते हुए गुजरात के पालीताना पहुंचेंगे।

सुवासरा। श्री आनंद धाम तीर्थ घसोई में उपधान तप का समापन हुआ। इस अवसर पर वरघोड निकाला गया। ४५ दिवसीय इस आराधना में ३६ श्रावक श्राविकाएं शामिल हुई आराधना का सिलसिला १८ अक्टूबर को शुरु हुआ था। गच्छाधिपति आचार्य दौलतसागर सूरीश्वरजी, आचार्य नंदिवर्धन सागर सूरीश्वरजी एवं तीर्थ के मार्गदर्शक आचार्य हर्षसागर सूरीश्वरजी की निश्रा में हुई तपस्या में आराधकों ने प्रतिदिन विभिन्न क्रियाएं की। तीर्थ परिसर में भगवान की रथयात्रा प्रारंभ हुई। इसमें श्रद्धालु भगवान पाश्र्वनाथ की प्रतिमा गोद में लेकर बैठे तो तपस्वी टैक्टर में सजाई झांकियों में। भगवान पाश्र्वनाथ के जयकारे लगे। रथयात्रा के नगर भ्रमण के दौरान श्रद्धालुओं ने भगवान के रथ के सामने चावल की गहुली बनाई। आचार्य भगवंत, साध्वी भी साथ चल रहे थे। श्री आनंद धाम नवयुवक मंडल व महिला मंडल ने बैंड की धुन व ढोल की थाप पर गरबा किया। रथयात्रा का समापन तीर्थ परिसर में हुआ। भगवान की आरती हुई। इसके बाद पंडाल में उपधान तपस्वियों को आचार्य ने मोक्ष माला पहनाई। इससे पहले तपस्वी व श्रद्धालुओं ने सामूहिक गुरुवंदन किया। अरविंद चोरडिया एवं पार्टी ने भजन पेश किए। उपधान तपस्वियों को तीर्थ पेढ़ी ने बहुमान किया। तीर्थ पेढ़ी अध्यक्ष सुजानमल जैन, मैनेजिंग ट्रस्टी डा. पन्नालाल भंडारी, सहसचिव कमल जैन, कोषाध्यक्ष मांगीलाल जैन, ट्रस्टी समरथमल पटवा सहित अन्य मौजूद थे।

ananddham tirth ghasoi1