ISBR बिज़नस स्कूल, बैंगलोर का वार्षिक दीक्षान्त समारोह संपन्न

ISBR बिज़नस स्कूल, बैंगलोर का वार्षिक दीक्षान्त समारोह संपन्न

SHARE
click to enlarge

बैंगलोर। ISBR बिज़नस स्कूल बैंगलोर का वार्षिक दीक्षान्त समारोह गत दिनों इलेक्ट्रोनिक सिटी कैम्पस में संपन्न हुआ। इस समारोह के विशेष अतिथि डा. राजीव गौड़ा, सांसद राज्यसभा, आर. शिवकुमार चेयरमैन एसोचेम, रवि गुरुराज चेयरमेन नास्कॉम प्रोडक्ट काउंसील और सुनील राव, कंट्री हेड गुगल थे। ISBR के चेयरमेन प्रकाश कोठारी और मेनेजींग डायरेक्टर मनीष कोठारी ने सभी अतिथियों का स्वागत किया।

जैन समाज के अग्रणी उद्योगपतियों में से एक प्रकाश कोठारी ने २५ वर्ष पूर्व इस बिजऩस स्कूल की नींव रखी थी और आज उनके पुत्र मनिष कोठारी इसकी बागडोर संभाल रहे है। २५ वर्षों में १५००० से ज्यादा विद्यार्थिंयों को देश की बड़ी – बड़ी कंपनीयों में इस स्कूल द्वारा प्लेसमेंट मिली है। देश की श्रेष्ठ रूक्च्र संस्थाओं में से एक ढ्ढस्क्चक्र बिजऩस सकूल आज जैन समाज को गर्वित करने वाली शैक्षणिक संस्थाओं में से एक है।

इस दीक्षांत समारोह के अवसर पर १९५ विद्यार्थियों को उनके दीक्षान्त प्रमाणपत्र दिए गए। गूगल, वोल्वो, जीई इंडस्ट्रीयल सोलूशन्स, फिडेलीटी नेशनल फाइनेशियल्स, कोटक महिंद्रा, ञ्जङ्क रिहनलैंड और डिकैथलोन जैसी प्रमुख संस्थाओं से आए मेहमानों ने विद्यार्थिओं को उनके प्रमाण पत्र दिए। अपने संबोधन में डा. राजीव गौडा ने देश की मैनेजमेंट संस्थाओं में नई पीढी को और उद्यमी, सक्रिय और परिणाम अभिनिन्यस्त बनाने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि देश में आज कई तरह के अवसर व सुविधाएं उपलब्ध है और इन युवाओं को देश व समाज के उद्धार की और भी सक्रिय रहना चाहिए।

isbr1

रवि गुरुराज को देश में स्टार्ट-अप्स के लिए नास्कॉम सपोर्ट प्रोजेक्ट द्वारा सही परिस्थितिक तंत्र की सहायता से युवाओं में उद्यमवृत्ति बढाने की तरफ उनके सराहनीय सहयोग के लिए एमिनेन्स अवार्ड से नवाजा गया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों की अपनी संस्थाओं से जुडा रहना चाहिए और शिक्षकों की कॉलेज अपने दूसरे घर की तरह लगना चाहिए। डा. देविका गुणशिला को भी महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य की आरे उनके कार्यों के लिए एमिनेंस अवार्डÓ से नवाजा गया। उन्होंने मौजूद सभी विद्यार्थियों से समाज के हित में कार्यो पर जोर देने की बात की। गुगल के कंट्री हेड सुनील राव ने विद्याथियों से कहा कि उन्हें अपने कैरियर की शुरुआत में ही सही निर्णय लेने चाहिए। स्वयं अपने गुणों को समझकर किसी भी कंपनी में ज्यादा से ज्यादा सीखने की कोशिश करनी चाहिए। अपने डिपार्टमेंट या फिल्ड के अलावा कंपनी के दूसरे डिपार्टमेंट को भी समझकर कंपनी किस तरह काम करती है इस पर गौर करना चाहिए। उन्होंने कहा कि मेहनत ही सफलता की पहली सीढ़ी है।

जेम्स ऑफ ISBR  (ISBR के रत्न) नामक एक किताब का भी अनावरण आर. शिवकुमार के करकमलों से हुआ। इस किताब में ISBR के विद्यार्थियों के सफलता की कहानीयों के उल्लेख है। १६ रत्नो को प्रमाण पत्र दिए गए।

मैनेजिंग डायरेक्टर मनिष कोठारी ने कहा कि दुसरों से लेना सभी को अच्छा लगता है पर किसी को देना, किसी की सहायता करने में ही जीवन जीने का आनंद है। उन्होंने कहा कि आज का समारोह दुसरों की सहायता एवं दूसरों को खुशी देने वाली इसी भावना की ओर समर्पित है। सीनियर डायरेक्टर डी. आर. आनंदराम ने विद्यार्थियों से शपथ ग्रहण करवाया।

कोर्पोरेट सोश्यल रिस्पोसिबिलीटी (CSR) के अंतर्गत राजस्थान कॉस्मो क्लब ने ISBR और ELICIA के जरिए ३००० यूनिफोम्र्स सरकारी स्कूलों को दिए। कॉलेज के डीन डा. सी. मनोहर ने ISBR की सफलता को और २५ वर्षों के सफर को मौजुद सभी मेहमानों के सामने पेश किया।