श्री नागेश्वर तीर्थ / Shree Nageshwar Tirth: Shri Nageshwar Parshwanath Mahatirth, which...

    श्री नागेश्वर तीर्थ / Shree Nageshwar Tirth: Shri Nageshwar Parshwanath Mahatirth, which is waving it’s renowned flag throughout the world, wherein the fourteen feet life size standing statue of Lord Shri Parshwanath is swaying the world with it’s miracles

    SHARE

    श्री नागेश्वर तीर्थ / Shree Nageshwar Tirth

    मूलनायक : श्री पार्श्वनाथ भगवान, हरितवर्ण, कार्योत्सर्ग मुद्रा।
    मार्गदर्शन : यह स्थान राजस्थान के झालावाड़ जिले में है, किंतु मालवा तीर्थ स्थानों की यात्रा करते हुए यहां जाना सुविधाजनक है। यहां से नजदीक रेलवे स्टेशन विक्रमगढ़ आलोट ८ कि. मी. नागदा-शामगढ़ के मध्य रतलाम कोटा लाइन पर स्थित है। स्टेशन से यात्रियों की सुविधा हेतु जीप व मिनीबस की सुविधा पेढ़ी की ओर से है। चौमहला से भी पक्का रस्ता है तथा नियमित बस सेवा उपलब्ध है। सड़क मार्ग से रतलाम से लगभग ९२ कि.मी. दूरी पर तथा उज्जैन से लगभग १०० कि.मी. दूरी पर तथा जाओरा से ५५ कि.मी. दूरी पर उन्हेल के निकट स्थित है।
    परिचय : यहां की श्री नागेश्वर पार्श्वनाथ की प्रतिमा लगभग ग्यारह सौ वर्ष पुरानी है। उपाध्याय श्री धर्म सागर जी म.सा. तथा गणिवर्य श्री अभय सागर जी म.सा. ने इस परिसर के जैन संघ को जागृत किया और उनकी प्रेरणा से उचित सरकारी कदम उठाकर मंदिर का कार्यभार जैन संघ ने अपने हाथ में संभालकर विधिवत् सेवा-पूजा प्रारंभ की। मंदिर जब कब्जे में मिला, तब वह जीर्ण अवस्था में था। परिसर के जैन संघ ने यहां भव्य मंदिर की योजना बनायी और करोडो रुपए की लागत से मंदिर का निर्माण किया। मूलनायक श्री पार्श्वनाथ प्रभु की प्रतिमा १४ फुट ऊंची है। कार्योत्सर्ग अवस्था में इतनी ऊंची श्वेतांबर प्रतिमा अन्यत्र कम देखने को मिलती है। मूलनायक के दोनों और सफेद संगमरमर की साड़े चार फुट ऊंची श्री शांतिनाथ भगवान और श्री महावीर स्वामी की प्रतिमाएं हैं। श्री पार्श्वनाथ प्रभु की प्रतिमा इतनी तेजस्वी है, ऐसा प्रतीत होता है कि रत्नों से बनायी गयी है। संवत् २०२६ में मंदिर की प्रतिष्ठा हुई। मूलनायक प्रभु प्रतिमा अत्यंत प्रभावी होने के कारण यहां भक्तगण बड़ी संख्या में आते है। ठहरने की व्यवस्था : तीर्थ स्थळ पर अनेक धर्मशालाएं हैं। भोजनशाला का भी प्रबंध है। आलोर में भी पेढ़ी ने एक विशाल धर्मशाला का निर्माण किया है। धर्मशाला ऑफिस से फोन द्वारा जीप, मिनीबस व अन्य वाहन उपलब्ध हो सकते हैं।