Wednesday, January 23, 2019
Authors Posts by shatabdiadmin

shatabdiadmin

875 POSTS 0 COMMENTS

नाडोल का महत्व गोड़वाड़ की पंचतीर्थी का एक तीर्थ होने का साथ ही, यह चौहान वंश के राजाओं का पाटनगर और भंडारियों व कोठारियों...

पर्युषण जैन श्रमण संस्कृति का आध्यात्मिक पर्व है। यह श्वेताम्बर परंपरा में आठ दिन और दिगम्बर परंपरा में दस दिन तक मनाया जाता है।...

हिंदुओं में जो महत्व नवरात्रि का है, जो महत्व रमजान का है, जो महत्व गुरु पर्व का है, जो महत्व बुद्ध पुर्णिमा का है...

आकाश के आंगन से आषाढ की प्रथम बदली बह के और मयूर मुक्त मन से नृत्य करे... उसके अंग अंग में आंनद छलके इसी...

यह पर्व आध्यात्मिक विकास का पर्व है। भौतिक विकास, आर्थिक विकास, बौद्धिक विकास- विकास की बहुत सारी शाखाएं हैं। आज का युग विकास का...

भगवान महावीर की मूल शिक्षा है- 'अहिंसाÓ। सबसे पहले 'अहिंसा परमो धर्म:Ó का प्रयोग हिंदुओं का ही नहीं बल्कि समस्त मानव जाति के पावन...

मनुष्य सुख का इच्छुक है। वह सुख से जीना चाहता है। उसके सुख में किसी प्रकार की बाधा पहुंचती है तो वह बेचैन हो...

सदियों पहले महावीर जन्मे। वे जन्म से महावीर नहीं थे। अनगिनत संघर्षों को झेला, कष्ट सहे, दुख में से सुख खोजा और तब कठिन...

श्रमण संस्कृति में पर्युषण पर्व को खास महत्व दिया गया है। जहां शेष समस्त पर्व-त्योहारों के पीछे लौकिक कारणों की प्रमुखता है, वहीं पर्युषण...

सदियों पहले महावीर जन्मे। वे जन्म से महावीर नहीं थे। अनगिनत संघर्षों को झेला, कष्ट सहे, दुख में से सुख खोजा और तब कठिन...