भूल जाइये कि अगले 40 साल में भी फालना में हवाई सेवा...

भूल जाइये कि अगले 40 साल में भी फालना में हवाई सेवा शुरू होगी

SHARE

जयपुर। गोडवाड के प्रमुख कस्बे फालना में हवाई सेवा की मांग अकसर उठती रहती हैं। गोडवाड़ क्षेत्र के विकास के लिए मुंबई की सामाजिक संस्थाओं से जुड़े लोग फालना में हवाईसेवा के इच्छुक दिखते हैं, तो राजनीति से जुड़े लोग भी हवाईसेवा के ख्वाब दिखाते रहते हैं। लेकिन जिस तरह से ख्वाबों की सच्चाई यह होती है कि वे कभी पूरे नहीं होते, उसी तरह से निश्चित रूप से फालना में हवाई पट्टी बनी हुई है। लेकिन यह ख्वाब अगले चालीस साल तक पूरा होता फिलहाल तो नहीं दिखता।

दरअसल, पूरे गोड़वाड़ इलाके के हर गांव को लोग बहुत बड़ी संख्या में मुंबई, पुणे, अहमदाबाद, बैंगलुरू व चेन्नई आदि शहरों में रहते हैं। वे अकसर अपने गांव जाते रहते हैं। वे दिल से चाहते हैं कि उनके अपने गांव तक भी हवाई सेवा हो। लेकिन सिर्फ चाहने भर से कुछ नहीं होता। हवाई जहाज की यात्री सेवाएं शुरू करने के लिए जो मूलभूत इन्फ्रास्ट्रक्चरल सेवाएं चाहिए, वे बहुत महंगी होती हैं। नागरिक उड्डयन विभाग के आंकड़ों के मुताबिक रोजाना किसी भी हवाई अड्डे पर कम से कम चार सेवाओं तक तो मूलभूत सुविधाओं का खर्चा भी नहीं निकल पाता।

असल बात यह है कि मुंबई से रोज जोधपुर या उदयपुर जैसे पर्यटन के महत्ववाले बड़े शहरों तक जानेवाले हवाई यात्रियों की संख्या भी बहुत सीमित है, तो मुंबई या बैंगलुरू से फालना तक हवाई जहाज में जानेवाले कितने लोग हो सकते हैं, यह सबसे बड़ा सवाल है। फिर एक तरफ जोधपुर और दूसरी तरफ उदयपुर दोनों हवाई अड्डे फालना से बहुत नजदीक केवल 120 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जहां उतरकर केवल डेढ़ घंटे में बहुत आसानी से फालना पहुंचा जा सकता है। तो फालना में हवाई सेवाएं शुरू करने की कोई बड़ी वजह नहीं है। लेकिन फिर भी मुंबई की सामाजिक संस्थाओं के कुछ भोले लोग यह मांग करते रहते हैं, और चालाक राजनीतिज्ञ हवाई सेवा के ख्वाब को हवा देते रहते हैं।

हवाई जहाज एक ग्लैमरस व आकर्षक यातायात सुविधा है। इसीलिए उसके बारे में बात करना हमारा ग्लैमर बढ़ाता है। सो, कुछ चालाक सामान्य लोग भी अपने स्वप्रचार के लिए फैशन के रूप में फालना में हवाई सेवा शुरू करने की मांग करते रहते हैं। लेकिन फालना ही नहीं समस्त गोड़वाड़ के वर्तमान आईने में यहां हवाई सेवाओं की संभावनाओं को देखें, तो अगले चालीस साल तक भी फालना में हवाई सेवा शुरू होने का ख्वाब सिर्फ ख्वाब ही रहेगा, यह निश्चित है। कुछ लोगों को भले ही अपनी इस बात पर भरोसा न हो, लेकिन जो लोग बीते चालीस साल से फालना में हवाई सेवाएं शुरू होने के किस्से सुनते आ रहे हैं, वे जरूर अपने से सहमत होंगे कि 40 साल बाद भी यह ख्वाब सिर्फ ख्वाब ही रहेगा।