आचार्य रविशेखर सूरीश्वर का ठाकुरद्वार संघ में हुआ चातुर्मासिक प्रवेश

आचार्य रविशेखर सूरीश्वर का ठाकुरद्वार संघ में हुआ चातुर्मासिक प्रवेश

SHARE

मुम्बई। जैन धर्म में वर्षाऋ तु के समय चार महीने चारित्र आत्माएं एक ही जगह विराजमान होकर धर्म उपासना करते हैं। इसी कड़ी में मुंबई के ठाकुरद्वार में नाकोड़ा तीर्थोद्धारक, विजय हिमाचल सूरीश्वर संप्रदाय के वर्तमान आचार्य रविशेखर सूरीश्वर महाराज, ललितविजय एवं मुनिराज  बोधिरत्न विजय महाराज का चातुर्मासिक प्रवेश श्री ठाकुरद्वार जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ के नेतृत्व में श्री नेमानी वाड़ी में हुआ। माधवबाग वाड़ी में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रविशेखरसूरीश्वर म. सा. ने कहां की चातुर्मास का काल व्यक्ति के काया की शुद्धि का काल है इस दौरान जब तक करके हम अपनी काया को ईश्वर के करीब लाते हैं इस दौरान आहार विहार की शुद्धि का विशेष तौर पर ध्यान रखना चाहिए उन्होंने लोगों की श्रद्धा भाव को सराहते हुए कहा कि चातुर्मास के इन पावन पर्व में अपने आत्मा की सुद्धि के लिए जप, तप और ध्यान में समय बिताएं। आत्मा को संवारने के सबसे सुनहरा अवसर होता है चातुर्मास। संत इन चार महीनों में स्वयं भी जप-तप आराधना करते हैं साथ ही अपने श्रावकों को भी करने के लिए प्रेरणा प्रदान करते हैं। आचार्य ने कहा कि क्षेत्र में ठाकुरद्वार संघ का एक भव्य भवन का निर्माण हो ऐसा सभी को प्रयास करना चाहिए। इस अवसर पर ललित शेखर मसा ने भी चातुर्मास के विषय में प्रकाश डालते हुए कहा कि यह आत्मा को निर्मल और पावन करने का अवसर हैं जिसका लाभ सभी को उठाना चाहिए।

मेवाड मू.पू. संघ मंत्री किशन सिंघवी ने बाताया की इस अवसर पर संघ की ओर से आयोजन सहयोगी नथमल राजावत परिवार (केलवाड़ा), केशरीमल, उमेदमल भंसाली परिवार (बिरामी) श्रीमती पुष्पाबेन राजमल मुणोत परिवार (दादाई), शांतिलाल केशरीमल परिवार (चरली), राम और श्याम (ठाकुरद्वार), श्रीमति भूरीबाई अचलचंदजी चुन्नीलाल पुनमिया (पिलोवणी), चातुर्मास के मुख्य लाभार्थी मातुश्री श्रीमती छगनीबाई पामेचा परिवार (झालो की मंदारवरदीचंद संघवी परिवार (मजेरा),  भुरालालजी पामेचा परिवार (गाँवगुड़ा), डालचंद बाफना  श्रीमती रूपाबेन गणेशमल बाफना परिवार (चारुभुजा), वरदीचंदजी संघवी परिवार (मजेरा),  भंवरलाल श्रीश्रीमाल परिवार (खिंवाड़ा), श्रीमती गजीबाई केशरीमलजी  चौहान परिवार चरली आदी सहयोगियो के परिजनों का सम्मान किया किया। मंच संचालन विनोद भाई आचार्य  ने किया।

आयोजन को सफल बनाने मे वही इस अवसर पर श्री ठाकुरद्वार जैन श्वे.मू.पू. संघ, मुंबई के अध्यक्ष वसंतकुमार भंसाली, उपाध्यक्ष राजमल, अशोककुमार वागोणी, सचिव महेंद्रकुमार मांडोत, रसिकलाल पालरेचा, भरतकुमार चौहान, कोषाध्यक्ष देवराज  पुनमिया, पंकजकुमार मेहता, देवीलाल चुन्नीलाल संघवी, कार्यकारिणी मंडल के सदस्यों का सहयोग रहा।