दर्शन सागर के नाम पर लायब्रेरी

दर्शन सागर के नाम पर लायब्रेरी

SHARE
Darshan Sagar Library
Darshan Sagar Library

दादा गुरुदेव के नाम से विख्यात जैन संत एवं सागर समुदाय के गच्छाधिपति रहे आचार्य श्री दर्शनसागर सुरीश्वरजी महाराज के नाम पर भायंदर में वाचनालय की शुरुआत हुई है।  दर्शन सागर वाचनायल का नामकरण समारोह भायंदर के विरंगुला केंद्र में संपन हुआ। राष्टसन्त आचार्य चन्द्रानन सागर सूरीश्वर  महाराज की उपस्थिति में संपन्न इस समारोह में स्थानीय विधायक नरेन्द्र मेहता एवं महापौर डिंपल मेहता ने दर्शन सागर वाचनालय का उद्घाटन किया। इस अवसर पर मीरा भायंदर के प्रमुख नगरसेवकों सहित जैन समाज के कई प्रतिष्ठित लोग एवं प्रबुद्ध सामाजिक कार्यकार्त उपस्थित थे। राष्टसन्त आचार्य चन्द्रानन सागर सूरीश्वर  महाराज, मुनि मननचंद्र सागर महाराज, साध्वी कल्पिताश्रीजी, चारुताश्रीजी आदि की निश्रा में यह आयोजन संपन्न हुआ। महानगरपालिका द्वारा संचालित वाचनालय गुरूदेव दर्शनसागर सूरीश्वर के नाम पर स्थानीय नगरसेवक सुरेश खंडेलवाल, डॉ.सुशील अग्रवाल, नगरसेविका वैशाली रकवी के प्रयासों से रखा गया है। राष्ट्रसन्त आचार्य चंद्रानन सागर ने इस अवसर पर अपने व्याख्यान में कहा कि जीवदया से बड़ा पुण्य इस दुनिया में और कोई नही है। हर व्यक्ति को जीवदया में अपना योगदान देना चाहिए। इसके साथ ही चंद्रानन सागर ने कहा कि जिनशासन की सेवा में विधायक मेहता के साथ मेरा आर्शीवाद हमेशा रहेगा। नगरसेवक दिनेश जैन, नगरसेविका वर्षा भानुशाली नाकोडा दरबार (मंडल) लालबाग के अध्यक्ष मनोज शोभावत, मोती सेमलानी एवं भरत कोठारी इस अवसर पर उपस्थित थे। जैनम ग्रुप, अहिंसा चेरिटेबल ट्रस्ट, जैन एलर्ट ग्रुप और श्री नाकोडा भैरव तारक मंडल के सभी सदस्यों का आयोजन की सफलता में सहयोग रहा। कार्यक्रम में अनिल सालेचा के भक्ति संगीत की स्वर लहरीयों के साथ ललित परमार ने संचालन किया।