मारवाड़ में डायलिसिस मरीजों के लिए नई उम्मीद बना नाहर हॉस्पिटल

मारवाड़ में डायलिसिस मरीजों के लिए नई उम्मीद बना नाहर हॉस्पिटल

SHARE

भीनमाल। मारवाड़ इलाके के डायलिसिस मरीजों को अब गुजरात या मुंबई नहीं जाना पड़ेगा। भीनमाल के नाहर हॉस्पिटल में डायलिसिस सुविधा शुरू हो गई है। इस सुविधा के बाद भीनमाल का यह हॉस्पिटल डायलिसिस मरीजों के लिए नई उम्मीद के रूप में उभरा है। नाहर हॉस्पिटल के चेयरमेन सुखराज नाहर एवं अजय नाहर का सपना है कि मारवाड़ इलाके के लोगों को क्वॉलिटी हेल्थ सर्विस मिले। इसीलिए उनका प्रयास है कि भीनमाल के नाहर हॉस्पिटल में सर्वोत्तम गुणवत्तावाली स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध हो। किडनी रोगियों के लिए डायलिसिस सुविधा नाहर की इसी कोशिश का हिस्सा है। मारवाड़ इलाके में डायलिसिस सुविधा के जरूरतमंदों के लिए वरदान के रूप में उभरे नाहर हॉस्पिटल में डायलिसिस सुविधा पानेवाले पहले मरीज 40 साल के कृष्ण कुमार परिहार है, जिनको स्टेज4 क्रोनिक किडनी रोग है और उनकी एक किडनी ही काम कर रही है। पिछले चार साल से उनको डायसिलिसिस के लिए हर सप्ताह गुजरात के पालनपुर या मुंबई जाना पड़ता था। लेकिन उनके परिजनों को जब पता चला कि भीनमाल के नाहर हॉस्पिटल में लेकर आए, और वहां के अत्यंत सुविधा जनक माहोल में बेहतरीन डायलिसिस सुविधा मिली। कंसल्टिंग नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. आशुतोष सोनी और उनकी टीम के नेतृत्व में किडनी रोग पीडि़तो के लिए अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित नाहर हॉस्पिटल में इलाज किया जा रहा है। अत्याधुनिक सुविधावाले नाहर हॉस्पिटल में बेहतरीन डायलिसिस सुविधा मिलने के कारण अब कृष्ण कुमार को साप्ताहिक डायलिसिस के लिए यहीं लेकर आने लगे हैं। नाहर हॉस्पिटल के कंसल्टिंग नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. आशुतोष सोनी कई प्रतिष्ठित अस्पतालों में नेफ्रोलॉजी विभाग के प्रमुख रहे हैं। वे बनारस हिंदु विश्वविद्यालय से नेफ्रोलॉजी में एमडी व डीएम हैं। रीनल ट्रांसप्लांटेशन और जनरल नेफ्रोलॉजी में विशेषज्ञ डॉ. सोनी के नेतृत्व में संचालित नाहर हॉस्पिटल की डायलिसिस सुविधा बहुत तेजी से प्रतिष्ठा अर्जित कर रही है। मारवाड़ इलाके के जालोर एवं सिरोही जिलों के आसपालस के इलाकों में डायलिसिस सुविधा देनेवाला नाहर हॉस्पिटल पहला मेडीकल सेंटर है, जो अपनी बेहतरीन सुविधाओं व सेवा की वजह से पूरे मारवाड़ में डायलिसिस मरीजों के लिए नई उम्मीद बनकर उभरा है।