अभी तो और होगा कांग्रेस का कबाड़ा–सिद्धराज लोढ़ा

अभी तो और होगा कांग्रेस का कबाड़ा–सिद्धराज लोढ़ा

SHARE
Sidhraj Lodha
Sidhraj Lodha

नरेंद्र मोदी फिर प्रधानमंत्री बन गए हैं। उनकी पार्टी भारतीय इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा जनादेश लेकर सत्ता में है और कांग्रेस छाती पीटकर मातम मना रही है। भारतीय लोकतंत्र में यह लगातार दूसरा मौका है, जब कांग्रेस को विपक्ष का नेता पद पाने की योग्यता से भी कम सीटें मिली हैं। यह राहुल गांधी की कांग्रेस है। कांग्रेस के खराब हालात का अंदेशा तो पहले से ही था, लेकिन ऐसी दुर्गति होगी, इसका अंदाजा किसी को नहीं था। हालांकि राजनीतिक विश्लेषक निरंजन परिहार बहुत पहले से ही घोषित कर चुके थे कि राहुल गांधी के नेतृत्व में इस बार के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हालत सबसे ज्यादा खराब होगी। लेकिन अपना मन नहीं मान रहा था। पर, फिर भी हालात को समझ कर ”शताब्दी गौरव” में इसी पन्ने पर, इसी जगह लिखा था कि असली उबाल तो अब आएगा।

राजस्थान की राजनीति मेंÓ तो मारवाड़ की राजनीति में सक्रिय कई नेताओं ने फोन करके शताब्दी गौरव से कहा था कि ऐसा नहीं है। वे कह रहे थे कि राजस्थान में न केवल जीतेगी बल्कि वोटों का हिस्सा भी बढ़ेगा। लेकिन नतीजे आए, तो कांग्रेस की टैं बोल गई। हर सीट पर कांग्रेस लाखों से हार गई। हवा फुस्स हो गई और अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ मोर्चा खुल गया है। उनके बेटे वैभव गहलोत की जोधपुर से हार को मुद्दा बनाकर उन्हें सताया जा रहा है। जैसा कि ‘शताब्दी गौरवÓ ने अंदेशा जाहिर किया था कि उबाल आएगा। तो, उबाल आ गया।

सचिन पायलट की अगुवाई में बेहद विश्वसीय एवं जनाधारवाले भले और भरोसेमंद नेता गहलोत को परेशान करके कांग्रेस क्या दर्शाना चाहती है, यह समझ से परे हैं। वैभव तो एक सीट पर हारे हैं, लेकिन पूरे देश में कांग्रेस का कबाड़ा तो सोनिया गांधी के बेटे राहुल गांधी की वजह से हुआ है। उसका क्या। अगर यही चलता रहा, तो कांग्रेस का 2024 में और कबाड़ा निश्चित हैं। शताब्दी गौरव की यह भविष्यवाणी लिखकर रख लीजिए, पांच साल बाद अगले लोकसभा चुनाव में फिर बात करेंगे।