75 गौशाला प्रतिनिधियों को 25 लाख का अनुदान वितरित

75 गौशाला प्रतिनिधियों को 25 लाख का अनुदान वितरित

SHARE

मुंबई। सूखे और अकाल से जूझ रहा राजस्थान एक-एक तिनके का सहारा खोज रहा है। समस्त महाजन एक आशा की किरण बन कर पीडित क्षेत्रों में पशुओं की प्राणरक्षा में खरा उतरने का कोशिश किया और इस विपत्ति से उबरने के लिए  स्थायी प्रबंधन के गुर सिखाने में लीन है, कुछ पढ़ा कर कुछ दिखा कर कुदरती व्यवस्था बनाने के लिए तत्पर है। समस्त महाजन का यह इंतजाम गौशाला प्रतिनिधियों को  खूब भाया। जिसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इस विपत्ति काल में 40 से 60 वर्ष  की उम्र वाले तकरीबन १२५ गौशाला प्रतिनिधि समस्त महाजन द्वारा आयोजित तीन दिवसीय जीवदया एवं गौशाला प्रशिक्षण में मन लगाकर भ्रमण-प्रशिक्षण प्राप्त किया। जितने प्रतिनिधि शामिल हुए उसमें से अधिकांश गौशाला प्रतिनिधि खाली हाथ नहीं गए।

समस्त महाजन के मैनेजिंग ट्रस्टी गिरीश शाह ने गौशालाओं को विषम परिस्थितियों में चलाने और स्वावलंबी बनाने के उपायों का सारांश बताते हुए कहा कि आज देश भर की गौशालाओं को संसाधन जुटाने के लिए कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं है। उन्हें चाहिए कि अपने पास उपस्थित जल प्रबंधन स्रोत को जागृत करें, चारा प्रबंधन  एवं स्वास्थ्य प्रबंधन के विषय में अगर सजग और सतर्क हो जाएं, यह समस्या स्वत:हल हो जाएगी। उन्होंन बताया कि गौशाला प्रबंधन में जल प्रबंधन करने के लिए तालाब का रख-रखाव अत्यंत आवश्यक है। वृक्षारोपण को अनेक समस्याओं का हल बताया और कहा कि वृक्ष पक्षीयों का बेहतरीन बसेरा है। जहां एक और छाया मिलती है वहीं दूसरी तरफ अनेक पशु-पक्षियों का भरण-पोषण और निवास स्थल होता है और इससे पर्यावरण ठीक रहता है। शाह ने बताया कि गोचर जाने वाले पशुओं को अतिरिक्त रख-रखाव तथा भरण-पोषण की समस्या नहीं होती है। गांव के साधन गांव के प्रबंधन से गौशाला का संचालन बड़े आसानी से किया जा सकता है। यही उद्देश्य लेकर के समस्त महाजन गौशालाओं को गोद लेने का काम आरंभ किया है जो निरंतर सफलता की ओर अग्रसर है।

भ्रमण-प्रशिक्षण कार्यक्रम के समन्वयक देवेंद्र जैन ने बताया कि प्रशिक्षण के आखिरी दिन गौशाला प्रतिनिधियों को गिरीश शाह के निजी गौशाला अनुसंधान केंद्र पर ले जाया गया जहां क्षारीय एवं उसर जमीन पर  गौशाला बनाकर मिट्टी को उप जाऊ बनाने का कार्य किया गया है और गोबर गोमूत्र के  सघन प्रयोग से मिट्टी की उर्वरा शक्ति वापस लाई जा रही है। यहां पर चारा उत्पादन के साथ -साथ ग्रामीण परिवेश को पुनर्जागरण करने का प्रयोग किया जा रहा है। दूरदराज एवं वीरान स्थल पर स्थापित इस गौशाला में आज पक्षीयों के लिए एक आकर्षक बसेरा बन गया है। उन्होंने बताया कि आखरी दिन गुजरात के प्रख्यात धर्मज गांव ले जाया गया और बताया गया कि 1,000 करोड़ की फिक्स्ड डिपॉजिट रखने वाले धर्मज के किसान अपनी डेरी चलाते हैं। उनके गांव में कोई पुलिस स्टेशन नहीं है और चारा उत्पादन का एक अनोखा कार्य करते हैं जिससे उनकी बढय़िा आमदनी होती है। अपनेपशुओं के लिए चारा उत्पादन सहकारिता आधार पर उ उगाते और बेचते हैं। उनका चारा उत्पादन गांव के सी वेज वाटर को रिफाइन कर सिंचाई की आवश्यकता पूरी करते हैं। देवेंद्र जैन के अनुसार आज के कार्यक्रम में अंतिम पड़ाव था 300 करोड़ से अधिक लागत से बनाई गई मणिलक्ष्मी तीर्थ स्थल में एक बैठक का आयोजन किया गया और गौशाला प्रतिनिधियों से उनकी समस्याएं सुनकर समाधान किया गया। सभा के अंतिम चरण में 77 गौशालाओं को 25लाख रुपए का अनुदान वितरित किया गया।

देवेंद्र जैन ने बताया कि 77 गौशालाए राजस्थान केमेवाड़, जैसलमेर और बाड़मेर की हैं जो गौशाला प्रबंधन एवं स्वाबलंबन के स्थाई उपाय ढूंढने के कार्य करेंगे ताकि किसी भी जैविक आपदा से मुकाबला किया जा सके। उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम के बाद में सभी गौशाला प्रतिनिधियों ने गौशाला को स्वावलंबी बनाने और प्राकृतिक आपदा से सामना करने का संकल्प लिया।