हर वोट कीमती, मजबूत लोकतंत्र के लिए करें मतदान

हर वोट कीमती, मजबूत लोकतंत्र के लिए करें मतदान

SHARE
Sidhraj Lodha

कुछ साल पहले तक लोगों को मतदान जरूरी नहीं लगता था। उन्हें यह फालतू की चीज नजर आती थी, लेकिन अब सोच में बदलाव हुआ है। कभी 50 प्रतिशत से कम लोग मतदान करते थे जो आंकड़ा आज 80 प्रतिशत के करीब है। यानी अब लोगों को मतदान की अहमियत पता है और नेता भी जितना जल्दी इसकी अहमियत को समझ लें, बेहतर होगा। कुछ नेता देशहित के बजाय स्वार्थ की राजनीति करते हैं। ऐसे राजनेताओं की वजह से पूरी राजनीति को ही मतदाता संदेह की दृष्टि से देखता है, लेकिन हमें ऐसे देश विरोधी और स्वार्थी नेताओं की पहचान कर इन्हें सबक सिखाना होगा। यह काम दूसरा नेता नहीं, एक मतदाता ही कर सकता है। हर वोट का विशेष महत्व है। इसके जरिये न केवल हमें मतदान प्रक्रिया को जानने का मौका मिलता है, बल्कि हम अपनी जिम्मेदारी भी निभाते हैं। हमें मतदान प्रक्रिया में बढ़-चढक़र हिस्सा लेना चाहिए। चुनाव ही एक ऐसा मौका होता है जब हम अपनी ताकत का एहसास बड़ी से बड़ी पार्टी के नेता को कराते हैं। अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो दर्शाते हैं कि काम नहीं करने वाले नेताओं को अपने क्षेत्र में जाने पर बुरे बर्ताव का सामना करना पड़ता है। मतदाता सवाल जवाब का हक रखता है और करना भी चाहिए। वोटर को किसी के दबाव में नहीं आना चाहिए। किसको वोट देना है, इस संबंध में एक बार अपने परिवार से सलाह कर सकते हैं, लेकिन उसके बाद अपने विवेक से ही वोट दें। चाहे वह किसी भी राजनीतिक दल से संबंध रखता हो।  लोकतंत्र को मजबूत करने के साथ ईमानदारी से मतदान करें। किसी भी तरह के लालच और दबाव में आकर मतदान न करें। अपने क्षेत्र और देश के लिए जो सबसे सही उम्मीदवार लगे फिर चाहे वो किसी भी पार्टी से क्यों न हो उसको ही वोट करें। लोग धर्म, जाति, परिवारवाद से प्रभावित होकर मतदान करते हैं। जब तक हम स्वार्थ और भेड़ चाल की राजनीति नहीं छोड़ेंगे तो ऐसे ही दुखड़े सुनाने पड़ेंगे। हमें लोकसभा उम्मीदवार भी अपने बीच में से ऐसे लोगों को चुनना होगा जो वास्तव में समाज और देश के लिए कुछ करना चाहते हैं।