श्री पाश्र्वनाथ उम्मेद जैन शिक्षण संघ फालना का वार्षिकोत्सव भव्य समारोह के...

श्री पाश्र्वनाथ उम्मेद जैन शिक्षण संघ फालना का वार्षिकोत्सव भव्य समारोह के साथ संपन्न

SHARE

फालना। श्री पाश्र्वनाथ उम्मेद जैन शिक्षण संघ का वार्षिकोत्सव भव्य समारोह के साथ संपन्न हुआ। संस्था द्वारा संचालित पाश्र्वनाथ उम्मेद स्नातकोतर महाविद्यालय, कनकराज सावंतराज लोढ़ा पब्लिक स्कूल, कुमार बिल्डर्स कम्प्यूटर एकेडैमी, पाश्र्वनाथ उम्मेद उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, गुंदेचा मैनेजमेन्ट एकेडैमी के संयुक्त रुप से आयोजित वार्षिक समारोह की शुरुआत महाविद्यालय प्रांगण में प्रात: १०:०० बजे अतिथियों के सम्मान के साथ हुई। सभी अतिथियों को तिलक एवं पुष्पहार पहनाकर श्रीफल अर्पित किया। इसके पश्चात सभी अतिथियों ने किर्तिस्तंभ पर वल्लभ गुरू को पुष्पहार अर्पण कर वंदना की। वहा से बेंड-बाजो के साथ सभी अतिथिगण परेड एवं ध्वजारोहण स्थल तक पहुँचे। समारोह के मुख्य अतिथि विधायक नरेन्द्र मेहता, समारोह अध्यक्ष विमलचंद बोराणा के करकमलों से ध्वजा रोहण हुआ। समारोह अध्यक्ष विमलचंद बोराणा एवं मुख्य अतिथी नरेन्द्र मेहता के साथ विशेष अतिथी महेन्द्र जोधावत, पूर्व छात्र प्रतिभा मोहनलाल भंडारी, उपाध्यक्ष खुबीलाल राठौड़ (चेयरमेन-फ्लेयर ग्रुप), संस्था सचिव एवं कार्यक्रम के संयोजक शांतिलाल सुराणा ने परेड़ की सलामी ली।

संस्था के अध्यक्ष इंदरचंद राणावत, उपाध्यक्ष, खुबीलाल राठौड, मगनलाल मेहता, सेक्रेटरी शांतिलाल सुराणा, जॉईट सेक्रेटरी शांतिलाल बोकडिया, सह कोषाध्यक्ष अशोक परमार, सह सचिव महेन्द्र भंडारी, के.सी. जैन (लंदन), सुकनराज राणावत, महेन्द्र चौपड़ा, विमलचंद राणावत, इंदरराज भंडारी, भरत ए. शाह, एन. सी. मेहता, सिद्धराज लोढ़ा, नरेन्द्र कोठारी, दिलीप राणावत, सुरेश खांटेड, फुलाद पुनमिया, संपत परमार, सांकलचंद परमार, अशोक संचेती, महेश बोहरा, मनिष चौधरी, विजय खांटेड, महेन्द्र बलदोटा, छात्रसंघ अध्यक्ष उत्तमसिंह देवड़ा, जगदीश पारेख, देवेन्द्र चौपड़ा, कांतिलाल बाफना, महेन्द्र भंडारी, अनिल जैन, विजय सुराणा, रमेश जैन, राजेश मेहता, महेन्द्र धोका, हेमंत राणावत, पारस बागरेचा, बिपीन चौधरी, अनिल कोठारी, गौरव शर्मा के साथ सभी अतिथि गण सहित संस्था के पदाधिकारी एवं गणमान्य मंचासीन थे। ध्वजरोहण के पश्चात मैदानी कार्यक्रम में सभी इकाईयों के विद्यार्थीयों द्वारा शानदार कार्यक्रम ‘अतुल्यभारतÓ का जोरदार प्रदर्शन किया गया। देश प्रेम से ओतप्रोत इस कार्यक्रम में भारतीय एकता के सुत्र तिरंगे के परिधान में जन गन मन एवं वंदे मातरम् की शानदार प्रस्तुति दी। झांकीयों ने मैदान में उपस्थित सभी लोगो का मंत्रमुग्ध कर दिया। इस कार्यक्रम में २५० छात्र-छात्राओं ने अपना कौशल्य दिखाया सभी दर्शकों एवं अतिथियों ने कार्यक्रम की सराहना करते हुए अतिथियों ने दिल खोलकर पुरस्कारों की घोषणा की। कार्यक्रम का जानदार संचालन देश के जाने माने मंच संचालक  राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित ओम आचार्य ने किया।

द्वितीय सत्र में अतिथि सम्मान पारितोषिक वितरण एवं सांस्कृतिक समारोह का आयोजन हुलास बी. सिरोया रंगमंच में हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती एवं श्री वल्लभ गुरुदेव को माल्यार्पण एवं सभी अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया।  इसके साथ ही मुख्य अतिथि नरेन्द्र मेहता, समारोह के अध्यक्ष विमलचंद बोराणा, विशिष्ट अतिथि महेन्द्र जोधावत, पूर्व छात्र प्रतिभा मोहनलाल भंडारी एवं भोजन एवं मिष्ठान्न के लाभार्थी श्रीमती पद्मा एवं भरत अमृतलालजी शाह का सम्मान सस्था के पदाधिकारीयों द्वारा किया गया। सभी गोल्ड मेडल एवं पुरस्कार देने वाले दानदाताओं का भी संस्था द्वारा सम्मान किया गया। मंचासीन अतिथियों का गरिमामय परिचय संस्था सचिव शांतिलाल सुराणा ने संक्षिप्त रुप से भारी तालियों की गडग़ड़ाहट के बीच दिया। समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि नरेन्द्र मेहता ने कहा कि मैं इस सम्मान हेतु संस्था का आभार प्रकट करता हुं उन्होंने युवाओं से कहा कि युवा ही देश की आशा है। उन्होंने टिचर्स, नॉन टिचर्स, ऑफिस बेरियर्स सहित सभी को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि जिन्होंने हमें घडा है, उनकी आकांक्षाओं को पूरा करना हर विद्यार्थी का कर्तव्य है। विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि वे पूरी लगन एवं मेहनत से शिक्षा ग्रहण कर अपने परिवार एवं इस संस्थान का नाम रोशन करें। असफलता से कभी कभी घबरायें नहीं। नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आगामी दिनों में युवाओं की हिस्सेदारी बढ़ेगी। समारोह अध्यक्ष विमलचंद बोराणा ने अपने संबोधन में कहा कि हमारे पूर्वजों ने कई वर्षों पूर्व शिक्षा के महत्व को समझते हुए कई शिक्षण संस्थाओं का निर्माण करवाया, जिससे आगामी पीढ़ी शिक्षा ग्रहण कर समाज एवं राष्ट्र के विकास में अपना योगदान दे सकें। उसे हमें समय के साथ आगे बढ़ाना है।

 

पूर्व छात्र प्रतिभा मोहनलाल भंडारी ने कहा कि वे ५० वर्ष पूर्व इस संस्थान से शिक्षा ग्रहण करने के पश्चात मुंबई में सी.ए. के रुप में कार्यरत है। उन्होंने कहा कि ५०वर्ष बाद मुझे इस संस्थान ने पूर्व छात्र प्रतिभा से सम्मानित कर मेरा गौरव बढ़ाया है। इसलिए मैं संस्था के अध्यक्ष इंदरचंद भंडारी एवं उपाध्यक्ष मगनलाल मेहता सहित सभी कार्यकारिणी सदस्यों का तहेदिल से आभार प्रकट करता हँू। उन्होंने कहा कि जो छात्र आगे सीए बनना चाहे उन्हें मैं पूरी तरह से सहयोग करुंगा। उपाध्यक्ष मगनलाल मेहता ने कहा कि मोहनलाल भंडारी सदा हसते ही रहते हैं, उन्हें कभी गुस्सा नहीं आता। हर शख्स उनका आदर करता हैं। संस्था सचिव शांतिलाल सुराणा ने ओम आचार्य को स्मृतिचिह्न देकर सम्मानित किया। शानदार फोटोग्राफी एवं विडीयोग्राफी किरण फोटो स्टुडियो के कांति मालवीयने की। वार्षिकोत्सव के संयोजक शांतिलाल सुराणा का सभी वक्ताओं ने बधाई देते हुए उनके इस संयोजन की भूरी-भूरी सराहना की।

सभी मेघावी छात्रों को गोल्ड मेडल, रजत मेडल, प्रशस्ति पत्र एवं स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया। भोजन एवं छात्रो को मिष्ठान वितरण की व्यवस्था श्रीमती पद्मा एवं भरत अमृतलालजी शाह (मरीन ड्राईव-धणा) की ओर से की गई। संस्था की स्मारिका का विमोचन मोहनलाल भंडारी के करकमलों से हुआ। इस अवसर पर एस.पी.यु. कॉलेज फालना, कनकराज सांवतराज लोढ़ा पब्लिक सेकंडरी स्कूल एवं पाश्र्वनाथ उम्मेद उच्च माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों ने लोक संस्कृति एवं भक्ति आधारित नृत्य प्रस्तुत किये। जिनमें नवकार मंत्र, गणेश वंदना, हनुमान चालीसा, कृष्ण भक्तिपर आधारित कार्यक्रम एवं १८५७ से लेकर देश आजादी तक की नृत्य नाटिका प्रस्तुति ने सभी का दिल जीत लिया।

संस्था के अध्यक्ष इंदरचंद राणावत ने अपने उद्बोधन में सभी अतिथियों का आभार प्रकट किया। उन्होंने छात्रों को कड़ी मेहनत कर मेरिट लिस्ट में आने का आव्हान किया। उन छात्रों को हर संभव सहयोग देने का आश्वासन दिया। उन्होंने तीन नये कोर्स खोलने की घोषणा की। संस्था सचिव शांतिलाल सुराणा ने संस्था के विकास एवं आगामी योजनाओं की जानकारी दी। अंत में संस्था के सहसचिव शांतिलाल बोकडिया ने आभार प्रकट किया। दूसरे सत्र में सांस्कृतिक कार्यक्रम का संचालन शालिनी झा एवं शिक्षिका कुमुद विशिष्ठ ने ओजस्वी शैली से किया।  कार्यक्रम को सफल बनाने में डा. सुरेशचन्द्र अग्रवाल – सीईओ, डा. प्रमोदकुमार छाजेड – कॉलेज प्रिंसिपल, गोविंद सिंह गेहलोत – प्रधानाचार्य, श्री पा.उ.उ.मा विद्यालय, राजऋषि शर्मा – प्रधानाचार्य, के. एस. लोढ़ा पब्लिक स्कूल एवं समस्त कार्यकारिणी सदस्यों का महत्वपूर्ण योगदान रहा।