जिन कुशल सूरीश्वर दादावाड़ी शंखेश्वर में नवनिर्मित यांत्रिक भवन का उद्घाटन

जिन कुशल सूरीश्वर दादावाड़ी शंखेश्वर में नवनिर्मित यांत्रिक भवन का उद्घाटन

SHARE
Jinkushal Suriji Dadawadi
Jinkushal Suriji Dadawadi

शंखेश्वर। शंखेश्वर स्थित जिनकुशल सुरी दादावाड़ी में करीब 50 अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त कमरो के यांत्रिक भवन का उद्घाटन साध्वी श्री कल्पलताजी एव विरायतन की शिल्पाजी की सानिध्यता में व समाजसेवी नाकोड़ा ट्रस्ट के अध्यक्ष संघवी रमेश मुथा व जीतो प्रेसिडेंट गणपत चौधरी के मुख्य आतिथ्य में समारोह पूर्वक सम्पन्न हुआ। दादावाड़ी संस्थान के अध्यक्ष वंशराज भंसाली ने अपने स्वागत उद्बोधन में यांत्रिक भवन के बारे में और दानदाताओ के सहयोग की जानकारी दी। इस दो दिवसीय आयोजन के अंतर्गत  आयोजित ज्ञान गोष्ठी में नरेंद्र  भंडारी (वैज्ञानिक), राजेंद्र  जैन (इसरो), साजन साह (मोटिवेशनल स्पीकर) ने समाज की गतिविधियों के बारे में  और युवा पीढ़ी को आगे आकर अच्छे कार्यों में और समाज को एक नई रोशनी देने का अवसर से संबंधित सारगर्भित व्याख्यान दिए। वक्ताओं ने कहा कि भगवान महावीर ने जो 2500 साल पुरानी बातें कही वह आज वैज्ञानिक इन है शोध के बाद मानने को तैयार हो गए ऐसा हमारा धर्म है।

लाभार्थी परिवार एवं अतिथियों का स्वागत एवं अभिनंदन – ट्रस्ट मंडल के अध्यक्ष वंशराज भंसाली एवं समस्त ट्रस्ट मंडल ने पधारे हुए सभी मेहमानों का स्वागत एवं अभिनंदन किया एवं इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नाकोड़ा के अध्यक्ष रमेश मुथा एवं जीतो प्रेसिडेंट गणपत चौधरी का स्वागत किया एवं इस भवन के दानवीर भामाशाह जिन्होंने मुख्य प्रवेश द्वार, भवन, भवन उद्घाटन, भवन भूमि प्रदाता एवं स्वागत कक्ष और लिफ्ट, भवन विंग, मुख्य कार्यालय, 4 फ्लोर, सभी का उद्घाटन कर सभी का बहू मान ट्रस्ट मंडल द्वारा किया गया। मंच पर दादावाड़ी के मुख्य सलाहकार प्रकाश कानूगो, तेजराज गुलेच्छा, संयोजक दीप बाफना, भूपत राज काटेड, अखिल भारतीय भंसाली समाज के अध्यक्ष पुखराज भंसाली, प्रकाश सिरोड़ी, कुशलराज भंसाली, व भवन के दानदाता आदि मौजूद थे। इस कार्यक्रम में शंखेश्वर पाश्र्वनाथ पेढ़ी के अध्यक्ष श्रेयक भाई, उद्योगपति त्रिलोकचंद बोथरा, राजेंद्र  छाजेड़, कांतिलाल गुलेेच्छा, चुन्नीलाल गुलेेच्छा सहित कई लोगो की भी विशेष उपस्तिथि रही। इस कार्यक्रम में सेवा का पूर्ण सहयोग अखिल भारतीय खतरगच्छ युवा परिषद शाखा अहमदाबाद का रहा। कार्यक्रम का संचालन माणक चौपडा ने किया।

श्री परम पूज्य खतरगच्छाधिपति आचार्य प्रवर श्री जिनमणिप्रभ सूरीश्वरजी की आज्ञानुवर्ति एवं जिन शासन की सितारा व्याख्यात्री दादावाडी की प्रेरणादाता प.पू. गुरुवर्या साध्वीश्री हेमप्रभाश्रीजी म.सा. का सपना आज पूरा हुआ।