ब्यावर में गुरुदेव एवं गुरुवर्याश्रीजी का भव्य मंगल प्रवेश

ब्यावर में गुरुदेव एवं गुरुवर्याश्रीजी का भव्य मंगल प्रवेश

SHARE

ब्यावर। भगवान संभवनाथ की अंजनशलाका प्रतिष्ठा महोत्सव में निश्रा प्रदान करने हेतु पाली से विहार कर ब्यावर पधारे संत-साध्वियों का श्री जैन श्वेताम्बर खतरगच्छ संघ की ओर से स्वागत किया गया। नवयुवक मंडल व कुशल महिला मंडल के सदस्यों ने अगुवानी कर आशीर्वाद लिया।

संघ मंत्री महेन्द्र छाजेड ने बताया कि खतरगच्छ के पूज्य संत मोहनलाल महाराज के समुदायवर्ती खतरगच्छ विभूषण व्याख्यान वाचस्पति पूज्य जयानंदमुनिजी म.सा. के सुशिष्य गणाधीश पंन्यास प्रवर विनयकुशल मुनि गणिवर्यजी म.सा. आदि ठाणा ४, गणाधीश प्रन्यास प्रवर विनयकुशल मुनि गणिवर्यजी म.सा. की आज्ञानुवर्तिनी प. पू. कुशल श्रीजी म.सा. की सुशिष्या पूज्या जयशिशू विरतीयशा श्रीजी म.सा. आदि ठाणा २ का शहर में प्रवेश हुआ। खुशी के इस मौके पर अजमेरी गेट पर गुरूदेव एवं गुरूवर्याश्री की अगुवानी कर स्वागत अभिनंदन किया गया। यहां से सभी पीपलिया बाजार स्थित ज्ञान आराधना भवन पहुंचे। मार्ग में त्रिशला नंदन वीर की, जय बोलो महावीर की…, सिर जावे तो जावे मेरा जैन धर्म ना जावे…, चंदन की दो चौकियां पूजन के दो हाथ, केसर भरयों बाटको पूजो नेम कुमार आदि जयकारों के बीच वातावरण भक्तिमय हो गया। जगह-जगह पर गवली बनाकर महाराजश्री का स्वागत किया गया। स्वागत के दौरान संघ अध्यक्ष सतीश मेडतवाल, नवयुवक मंडल अध्यक्ष राकेश डोसी, महिला मंडल अध्यक्षा निशा चौपडा सह संयोजक राकेश भंडारी, चेतन हालाखण्डी, सुषमा मेडतवाल, सुमन भंडारी, सविता बरडिया सहित जैन समाज के कई अग्रणी लोग उपस्थित थे।