दिलीप चंदन गुजरात में कज़ाकिस्तान के मानद काउंसल नियुक्त

दिलीप चंदन गुजरात में कज़ाकिस्तान के मानद काउंसल नियुक्त

SHARE
Dilip Chandan

मुम्बई। जाने-माने उद्योगपति दिलीप चंदन को एशियाई देश कजाकिस्तान की सरकार ने गुजरात में अपना मानस काउंसल नियुक्त किया है। कजाकिस्तान क्षेत्रफल के हिसाब में से दुनिया में नवा सबसे बड़ा देश है। यह कभी सोवियत संघ का हिस्सा हुआ करता था, लेकिन अब यूरेशिया का हिस्सा है। दिलीप चंदन की अंतरराष्ट्रीय स्तर की नियुक्ति पर मुंबई की कई सामाजिक संस्थाओं, जैन इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन (जीतो) के पदाधिकारियों सहित मेटल एवं विभिन्न व्यवसाय से जुड़ी संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने  उन्हें बधाई दी है। दिलीप चंदन की इस नियुक्ति को भारत के राष्ट्रपति ने स्वीकृति दे दी है।  राजस्थान में जालौर जिले के सांचौर कस्बे के निवासी दिलीप चंदन जाने-माने उद्योगपति एवं समाजसेवी चुन्नीलालजी चंदन के बेटे हैं। वे स्वयं भी सामाजिक एवं औद्योगिक क्षेत्र में काफी बड़ी हैसियत रखते हैं। दिलीप चंदन जैन इंटरनेशनल ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (जीतो) के संस्थापक सदस्य एवं मुंबई जोन के वाइस चेयरमेन है। जैन साधु संतों के सेवा एवं स्वास्थ्य की रक्षा के लिए स्थापित श्रमण आरोग्यम में सेके्रटरी के रूप में भी कार्य कर रहे हैं। दिलीप चंदन को कई सामाजिक सम्मान मिले हैं एवं उन्हें उमरगाम गौरव सम्मान से भी पुरस्कृत किया जा चुका है। वे शिक्षा, संस्कृति, खेल एवं सामाजिक गतिविधियों के विकास में हमेशा सहभागी रहे हैं।  कजाकिस्तान के गुजरात स्थित मानद काउंसल नियुक्त होने को लेकर दिलीप चंदन ने विश्वास व्यक्त किया है कि इस नई अंतर्राष्ट्रीय भूमिका में खरे साबित होंगे। कजाकिस्तान द्वारा की गई चंदन की यह नियुक्ति 21 सितंबर 2020 तक मान्य है। एशिया महाद्वीप के एक बड़े भूभाग पर फैला कजाकिस्तान गणतंत्र ने सन 1991 में सोवियत संघ की समाप्ति के बाद स्वतंत्र देश के रूप में खुद को आजाद घोषित किया था, तब से लेकर कजाकिस्तान का विकास लगातार प्रगति पर है। भारत के साथ कजाकिस्तान के संबंध काफी अच्छे रहे हैं। दिलीप चंदन की गुजरात में मानद काउंसल के रूप में यह नियुक्ति दोनों देशों के बीच व्यापारिक, सांस्कृतिक एवं वैश्विक संबंध विकसित करने में मददगार साबित होगी। शताब्दी गौरव की ओर से श्री चंदन को हार्दिक बधाई एवं यशस्वी कार्यकाल की मंगल कामनाएं।