रूगड़ी / Rugdi

रूगड़ी / Rugdi

SHARE

राजस्थान के पाली जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. १४ से गुजरने वाला, जोधपुर-उदयपुर मेगा हाईवे क्र. ६७ पर सोमेसर रेलवे स्टेशन से पांचेटिया रायपुरिया होकर २४ कि.मी. दूर हाईवे पर खिंवाडा फाटे से वाया सांवलता पिलोवणी १७ कि.मी. दूर स्थित है गांव रूगड़ी

राजपुरोहितों के इस गांव में आज भी प्रवेशद्वार से गाड़ी या सायकिल पर बैठकर गांव के अंदर नहीं जा सकते, पैदल ही जाना पड़ता है। कभी यहां जैनों के १० घर थे, जो बाद में धीरे-धीरे खिंवाडा (१२ कि.मी. दूर) व आसपास के गांवों में जाकर बस गये। यहां के निवासी श्री मांगीलाल जी प्रेमचंदजी सुंदेशा, जो हाल में मद्रास के उपनगर आवड़ी में रहते है, से मोबाईल नं. ०९२८३३९३९०७ पर बातचीत करने पर पता चला कि प्राचीन काल में रूगडी में जो जैन मंदिर था, वर्तमान में वहीं श्री चारभुजाजी का मंदिर है, और यहां की सारी प्रतिमाएं पास के गांव ‘सांवलता’ भेज दी गई है। हमारी टीम द्वारा निरीक्षण करने पर, इसकी बनावट से सिद्ध होता है कि कभी यह जैन मंदिर रहा होगा। बाहर एक शिलालेख भी गड़ा हुआ है। यहां के पारसमलजी प्रेमराजजी सुंदेशा, कांतिलालजी अनराजजी सुंदेशा, मूलचंदजी अनराजजी सुंदेशा परिवार मद्रास के आवडी में रहते है। गोड़वाड़ का यह प्राचीन गांव वरकाणा जाजम का सभासद रहा।

मेरी गोडवाड यात्रा पुस्तक के अनुसार ७० वर्ष पहलं यहां जैनों के ५ घर विद्यमान थे, मगर मंदिर आदि का उल्लेख नहीं किया गया है।