भीटवाड़ा / Bhitwada

भीटवाड़ा / Bhitwada

SHARE

 

गोडवाड के प्रवेशद्वार फालना रेलवे स्टेशन से राज्यमार्ग क्र.१६ पर १७ कि.मी. दूर राणकपुर जाने वाली मुख्य सड़क पर स्थित मुंडारा से रानी जाने वाली सड़क पर ६ कि.मी. दूर एक गांव स्थित है भीटवाड़ा

गांव में विराजमान श्री छगनसिंहजी किशोरजी राव (उम्र ९९ वर्ष) से बातचीत के पता चला कि यहां मात्र तीन दिन जैन परिवार बसे हुए थे, जिनका पैसों के लेन-देन का मुख्य व्यापार था, मगर यहां जैन मंदिर कभी भी नहीं था। वर्तमान में सिर्फ एक जैन परिवार है। श्रीमान सा. पुखराजजी हीराचंदजी निमचौहान (उम्र ७९ वर्ष) के अनुसार, इनके पिताश्री हीराचंदजी १२० वर्ष पहले मुंडारा से यहां आकर बसे थे एवं किराणा व कपड़े का व्यापार चालू किया था, जो आजतक चालू है। पति-पत्नी दोनों ही यहां रहते है। पूर्व में यहां के निवासी श्री ओकचंदजी सादड़ी वाला, श्री पुखराज पोरवाल, श्री गोरोबा बाली वाले परिवार धीरे-धीरे रानी में स्थाई हो गये।