बागोल / Bagol

बागोल / Bagol

SHARE

गोड़वाड़ की धर्मधरा के पाली जिला में राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. १४ पर अवस्थित जैतपुरा नगर के, चौराहे पर स्थित श्री विजयवल्लभ साधना केंद्र में विश्व में सर्वप्रथम बार श्रीयंत्राकार में उत्तुंग अद्वितीय चतुमुर्ख जिनप्रासाद का निर्माण तीव्रगति से चालू है।

अज्ञान तिमिर तरणि, कलिकाल कल्पतरु, पंजाब केसरी आचार्य भगवंत श्रीमद् विजय वल्लभसूरिजी म.सा. ने सुख, शांति, शिक्षा तथा संस्कारों की सर्वतोमुखी गंगा बहाई। अशिक्षा के घोर अंधकार से बाहर निकालकर शिक्षा तथा उस गुरु के उपकार ऋण से यत्किंचित उऋण होने की प्रबल भावना से श्री आत्म-वल्लभ-समुद्र फाउण्डेशन ट्रस्ट के मध्य से विशाल भूभाग पर जैन धर्म दर्शन, संस्कृति व शिल्पकला पर आधारित धर्मस्थल निर्मित करने का सत्संकल्प कल्याणक तीर्थोद्धारक शांतिदूत वर्तमाीन गच्छाधिपति जैनाचार्य श्री नित्यानंदसूरिजी की सत्यप्रेरणा से लिया गया है। ३० बीघा जमीन पर फैला श्री विजयवल्लभ साधना कें द्र, गुरु मंदिर, धार्मिक, सामाजिक, शैक्षणिक, शारीरिक, मानसिक, आत्मिक स्वास्थ्य व शांति, योग प्राणायाम, ध्यान, साधना, जीवदया व जनकल्याणकारी, बहुआयामी योजनाओं का केंद्र होगा। राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. १४ पर विहार करने वाले साधु—साध्वियों के लिए गुंदोज व बालराई के मध्य स्थिरता हेतु यह उपयोगी स्थल होगा। इस संकुल में विश्व में सर्वप्रथम श्री यंत्राकार जिनप्रासाद का निर्माण पूर्णता की ओर अग्रसर है। जिन मंदिर के साथ गुरु मंदिर में आ श्री आत्मारामजी म.सा. गुरु प्रतिमा प्रतिष्ठित होगी, जिसका लाभ श्रीमती रतनबाई ताराचंदजी परमार सेवाडी निवासी परिवार ने लिया है। सन् २०१४ में प्रतिष्ठा महोत्सव संपन्न हुआ। वर्तमान में तीसरे तीर्थंकर की श्वेतवर्णी, २१ इंची, पद्यसनस्थ मूलनायक श्री संभवनाथ स्वामी की प्रतिमा छोटे से गृह मंदिर में सात साल से प्रतिष्ठित है। इस प्रतिमा की अंजनशलाका वीर नि. पं. २५१५, वि. सं २०४५ के माघ शु. ५, शुक्रवार दि. २०.०२.१९८९ को राजधानी देहली में आ. श्री इन्द्रिन्नसूरिजी के करकमलों से संपन्न हुयी थी। यहां हर रोज पूजा अर्चना होती है।

सुविधाएँ :  काटेज स्वरूप में ३० अटैच कमरे हैं। २ विशाल हॉल, यात्रिक भवन, यात्रिक हॉल, श्रमण—श्रमणी बिहार, उसाश्रय, काटेज, पेढी भवन व उत्तम भोजनशाला की सुंदर व्यवस्था है। कुल २५० बिस्तर सेट उपलब्ध है।

पेढी: श्री आत्म वल्लभ समुद्र फाउंडेशन, नेशनल हाईवे नं. १४, मु. पो. जैतपुरा—३०६११९

रानी स्टेशन, तह+जिला —पाली, राजस्थान

पेढी संपर्क : ०२९३२ २६२८७६, मैनेजर : श्री राकेश जैन  – ०९३५२३७६०५८, मुनीम : शंकर सिंह  – ०९६१०६६५४२६

पुजारी : ०९७४२३५३२२३, ट्रस्टी : श्री गणपतजी मेहता — ०९३२४६७६८६७, श्री जयचंद जी ०९३२२०४६२५