SHARE

मुंबई। ऑर्थर रोड में जेल में बंद कैदियों में सकारात्मक ऊर्जा के संचार और अच्छे विचारों को फैलाने के उद्देश्य से जेल में ही जैन संत जे.पी. गुरुजी के प्रवचन का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जेल अधीक्षक हर्षद अहिराव ने जैन संतों का स्वागत किया। दक्षिण विभाग के विशेष पुलिस महानिरीक्षक (कारागृह) राजवर्धन भी पूरे समय मौजूद रहे और उन्होंने जैन संतों का जेल में आकर कैदियों के संबोधित करने के लिए आभार व्यक्त किया। प्रवचन में जैन संत जेपी गुरु ने कैदियों को समझाया कि कानून का पालन न करने पर सजा तो मिलना तय है। अगर यहां के कानून से बच भी गए, तो कुदरत का कानून किसी को नहीं छोड़ता। कुदरत के कानून में किसी की दखलंदाजी नहीं चलती और वह हर एक के लिए बराबर न्याय करता है। उन्होंने कहा कि जेल की सजा प्रायश्चित करने का एक अवसर है। अगर आपने गलत किया है तो भी आप अपने-अपने भगवान से सच्चे मन से क्षमा मांगे आपको जेल के बंधन से मुक्ति मिल जाएगी।