नाकोडा धाम में उपधान तप की मोक्षमाला संपन्न

नाकोडा धाम में उपधान तप की मोक्षमाला संपन्न

SHARE

मुबई। नाकोड़ा भैरव दर्शन धाम तीर्थ ट्रस्ट के तत्वावधान में विरार पूर्व ढेकाले स्थित नाकोड़ धाम में उपधान तप का आयोजन किया गया। राष्ट्रसंत आचार्य चन्द्राननसागर सूरीश्वरजी की निश्रा में ४७ दिन में चल रही उपधान तप के तपस्वियों की मोक्षमाला की उजवणी हुई। इस अवसर पर गुरुदेव ने कहा कि जीवन में उपधान तप की आराधना से श्रावक-श्राविका को महामंत्र नवकार एवं अन्य मंत्रों को जपने का अधिकार मिल जाता है। साथ ही इससे मिलने वाले पुण्य में अभिवृद्धि होती है। उन्होंने कहा कि ४७ दिन तक साधु-साध्वी जैसा जीवन यापन करके तप आराधना करते हुए धर्म के प्रति भावों को बढ़ाता है। इस पावन बेला पर मुनि हरीशचंद्र सागर, मुनि पुष्पचंद्र सागर, मुनि मननचंद्रसागर, विदुषी साध्वी कल्पिता महाराज, साध्वी चारुता महाराज, साध्वी अशिता महाराज, साध्वी रिशिता महाराज आदि गुरु भगवंत उपस्थित थे। सभी तपस्वियों का ढेकाले गांव में एक दिन पूर्व वरघोड़ा (शोभायात्रा) निकाला गया जिसमें हजारों की संख्या में लोग उपस्थित थे। इस अवसर पर ट्रस्टी कांतीलाल शाह, दिनेश तेलिसरा, ललित जगावत, देवीचंद सतावत, सुरेश जैन, अशोक बड़ाला तथा दर्शन परिवार के लोग उपस्थित थे।