तिरुपति में श्री ब्रह्मेश्वर पार्श्वनाथ स्वर्ण जैन मंदिर की अंजनशलाका प्रतिष्ठा महोत्सव...

तिरुपति में श्री ब्रह्मेश्वर पार्श्वनाथ स्वर्ण जैन मंदिर की अंजनशलाका प्रतिष्ठा महोत्सव ११ फरवरी २०१८ को

SHARE

मुंबई। तिरुपति में श्री ब्रह्मेश्वर पार्श्वनाथ स्वर्ण जैन मंदिर की अंजनशलाका प्रतिष्ठा महोत्सव का आयोजन ५ से ११ फरवरी २०१८ को आचार्य श्री रत्नाकर सूरीश्वरजी की पावन निश्रा में आयोजित होने जा रहा हैं।

मुंबई के प्रतिष्ठित उद्योगपति सोजत निवासी राजेन्द्र सी. मेहता परिवार द्वारा श्री सिद्धेश्वर तीर्र्थ ब्रह्मर्षि आश्रम तिरुपति के विशाल कॉम्प्लेक्स में बने इस मंदिर में जिसमें मेडिटेशन हॉल, प्रार्थना हॉल, भोजनशाला और भक्तों के ठहरेने हेतु २५० कमरे हैं। विभिन्न तीर्थंकरों के नाम पर कुल १२ गौशालाएं भी हैं। शंख के रूप में एक स्तंभ रहित विशाल मेडिटेशन सेंटर का भी निर्माण हो रहा है। मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा और अंजनशलाका ११ फरवरी २०१८ को होंगी। राजेन्द्र मेहता द्वारा निर्मित यह मंदिर दक्षिण भारत में अपनी तरह का अनोखा नक्कासी युक्त सफेद संगमरमर का मंदिर होगा, जिसमें  ३१ इंच श्री ऋषभदेव, श्री महावीर स्वामी, श्री नेमिनाथ, श्री मुनिसुव्रत स्वामी एवं २१ इंच चौबीस तिर्थंकर भगवान बिराजमान होंगे। इसके साथ ही क्षेत्रपाल धरणेन्द्र पदमावती देवी, श्री नाकोड़ा भैरव की मुर्तिया भी प्रतिष्ठित की जाएगी। मंदिर के मूलनायक भगवान पाश्र्वनाथ की मूर्ति ५० इंच की होगी। मंदिर का क्षेत्रफल करीब १२००० स्क्वे फीट होगा। मंदिर में सीमंधरस्वामी भगवान की प्रतिमा भी होगी। मकराणा, राजस्थान में १०० कारीगरों के दिन – रात प्रयत्नों के कारण यह मंदिर सिर्फ २ वर्ष में पूरा हुआ है। कुल मिलाकर दक्षिण भारत मे यह एकलोता मंदिर है जहाँ २५ तीर्थंकर और देवी – देवों की प्रतिमाएं हैं।

श्री मेहता ने शताब्दी गौरव के संवाददाता को जानकारी देते हुए बताया कि ५ फरवरी २०१८ को परमात्मा प्रवेश के साथ ही महोत्सव का प्रारंभ होगा।

फाल्गुन वदी ७, बुधवार, दि. ७.२.२०१८ को श्री लघु विशस्थानक पूजन, श्री भैरव पूजन, श्री लघु सिद्धचक्र पूजन, च्यवन कल्याणक विधान, माता-पिता स्थापना, इंद्र-इन्द्राणी स्थापना, प्रतिष्ठाचार्य – धर्माचार्य स्थापना

फाल्गुन वदी ८, गुरुवार, दि. ८.२.२०१८ को जन्म कल्याणक विधान, ५६ दिग्कुमार महोत्सव, ६४ इन्द्रो द्वारा २५० अभिषेक, भगवान का १८ अभिषेक

फाल्गुन वदी ९, शुक्रवार दि. ९.२.२०१८ को प्रियवंदा दासी द्वारा परमात्मा जन्म बधाई, झूला-नामकरण-पाठशाला गमन, परमात्मा का विवाह महोत्सव, मामेरा-राज्याभिषेक, नव लोकांतिक देवा द्वारा प्रभु की दीक्षा की विनंती, सायं मेहंदी कार्यक्रम

फाल्गुन वदी १०, शनिवार, दि. १०.२.२०१८ को देव-देवी पूजन, चैत्याभिषेक (प्रसाद पुरुष स्थापना), भव्यातिभव्य ऐतिहासिक दीक्षा का भव्य वरघोडा, दीक्षा कल्याणक, माता-पिता-बहन-कुल महत्तरा द्वारा विलापसह विदाई, इंद्र द्वारा देव दृश्य अर्पण, बड़ी सांझी, अधिवासना-अंजनशलाका

फाल्गुन वदी ११, रविवार, दि. ११.२.२०१८ को तोरण बांधना-तोरण वंदना, शुभलग्र में महामंगलकारी प्रतिष्ठा, ध्वज-दंड-कलशारोपण, केसर कुंकू थापा, सवा लाख अक्षत का स्वस्तिक, मानेक लड्डू, गुरुदेव द्वारा प्रतिष्ठा फल सह मांगलिक-धर्म सभा, काम्बली, बृहत शांति स्नात्र पूजा, आंगी रौशनी

फाल्गुन वदी १२, सोमवार, दि. १२.२.२०१८ को द्वारोद्धाटन, श्री सत्तरभेदी पूजा का आयोजन होगा।

सम्पर्क सूत्र: मनोज कोठारी : ७९७७२२६६०५, आशिष मेहता: ९७८९०२९९९९, महेन्द्र चोरडिया: ९८२१०१२६००, शैलेन्द्र: ८०९७६६२७९६, शैलेश कोठारी: ९८२००२४२२७

इस अवसर पर देश के अग्रणी विभिन्न क्षेत्रों में योगदान देने वाले १०८ हस्तीयों को सम्मानित किया जाएगा। इस महोत्सव पर देश के कई केन्द्रीय मंत्री एवं राज्य मंत्री सहित देश विदेश से कई महत्वपूर्ण अतिथिगण उपस्थित रहेंगे। मेहता परिवार इस महोत्सव को लेकर अति उत्साहित है व तैयारियों में जोर शोर से जुटा हुआ है।