श्री वीर मानव सेवा संस्थान (कोसेलाव) द्वारा २१वाँ नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का...

श्री वीर मानव सेवा संस्थान (कोसेलाव) द्वारा २१वाँ नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन संपन्न

SHARE

कोसेलाव। धर्म का मतलब सिर्फ मंदिर जाना सेवा पूजा जप तप करना ही नहीं वरन् सही मायने मे इन्सानियत, मानवता ही सबसे बड़ा धर्म है। किसी जीव प्राणी मात्र के प्रति दया, प्रेम, ममता का भाव ही मानव धर्म है। कहते है दुनिया मे कोई ऐसी शक्ति नहीं है जो इन्सान को गिरा सकें, इन्सान ही इन्सान द्वारा गिराया जाता है। किन्तु सब जगह ऐसा नहीं है कि सभी बुरे लोग है इस जगत मे अच्छे और बुरे लोगों का संतुलन है। जहाँ एक और संस्कारों  का चिरहरण हो रहा है वहीं  मानवता और इन्सानियत की मिसाल कायम है। ऐसा ही एक उदाहरण है वीर मानव सेवा संस्थान कोसेलाव जो पिछले 20वर्षो से नि:शुल्क जनरल चिकित्सा, नैत्र व पशु चिकित्सा शिविर  का आयोजन  करता आ रहा है, और मानवसेवा व जिवदया के कार्यो को अपना कर्तव्य समझकर फर्ज अदा कर रहा है।

इस बार भी प्रति वर्ष  की भाँति 21वॉ नि:शुल्क जनरल चिकित्सा नैत्र व पशु चिकित्सा शिविर वीर मानव सेवा संस्थान कोसेलाव के तत्वावधान मे आयोजित किया गया। करीबन 2 से 3 हजार लोगो ने शिविर का लाभ लिया।

इस शिविर के लाभार्थी मातुश्री पोसीबेन मिश्रीमलजी पुनमिया के पुत्र और संस्था के अध्यक्ष महेन्द्रकुमार मिश्रीमलजी पुनमिया परिवार थे। जिन्होंने उद्धार दिल से इस शिविर में अपनी लक्ष्मी का सद्पयोग किया। शिविर का उद्घाटन आयोजक परिवार द्वारा परमात्मा को दीप प्रजव्लन व माल्यार्पण  करके किया गया। संस्था द्वारा लाभार्थी परिवार का शाल, माला, तिलक और अभिनंदन पत्र देकर बहुमान किया गया।

इसके साथ ही कोसेलाव गांव पंचायत समिति की और से सरपंच नारायणसिंह ने भी लाभार्थी परीवार का बहुमान किया। शिविर में 6583 पशुओं  का चेकअप और 12 मेजर शल्य चिकित्सा की गई। सभी को मुफ्त में दवा का वितरण भी किया गया। इस अवसर पर नाकोड़ा दरबार (मंडल) के अध्यक्ष मनोजभाई शोभावत विशेष रूप से उपस्तिथ थे। संस्था और श्री ओसवाल जैन संघ कोसेलाव के अध्यक्ष बाबुलालजी धनराजजी कोठारी द्वारा उनका बहुमान किया गया। इसके साथ ही कोसेलाव गांव के सरपंच नारायणसिंह, उपसरपंच एवं सेवा देनेवाले सभी डॉक्टरों का सन्मान भी संस्था द्वारा किया गया।

इस पूरे दो दिवसीय शिविर के कार्यक्रम का मंच संचालन संस्था के भरत एन. कोठारी ने किया। इस अवसर पर वीर मित्र मंडल के सदस्य बाबुलाल डी. कोठारी, अशोक आर. कोठारी, बाबुलाल के. कोठारी, तेजराज खांटेड, फतेचंद तलेसरा, मदन परमार, घेवरचंद आर. कोठारी सहित संस्था के सदस्य एवं गणमानय उपस्थित थे।

इस अवसर पर आगामी तीन वर्षो तक शिविर लाभ २०१८ नितिनकुमार वरदीचंदजी कोठारी, २०१९, दिलीपकुमार कुंदनमलजी सुंदेशा मेहता एवं २०२०, घेवरचंद रिखबचंदजी कोठारी परिवार ने लिया।