डॉ. शर्मा ने यूएस में बढ़ाया भारत का गौरव

डॉ. शर्मा ने यूएस में बढ़ाया भारत का गौरव

SHARE

हृदयरोग उपचार की अत्याधुनिक तकनीक का किया सफल प्रदर्शन

मुंबई। बॉम्बे हॉस्पिटल के वरिष्ठ हृदयरोग विशेषज्ञ प्रोफेसर डा. अनिल शर्मा ने अमेरिका में आयोजित विश्व की सबसे बड़ी व महत्वपूर्ण कॉफ्रेंस टीसीटी २०१७ में हृदयरोग उपचार की जटिल तकनीक रोटाबलेशन तथा अत्याधुनिक तकनीक गाइडलाइनर का सफल प्रदर्शन कर चिकित्सा जगत में भारत का नाम रोशन किया है। इस कांफ्रेंस में चुनौतीपूर्ण एंजियोप्लास्टी मामलों का प्रदर्शन करने के लिए विश्व के अनेक देशों के नामी-गिरामी हृदयरोग विशेषज्ञ एकत्रित हुए थे। विश्व के विभिन्न देशों से आए १०,००० डॉक्टरों के बीच भारत के डा. अनिल शर्मा के जटिल तकनीक रोटाबलेशन तथा अत्याधुनिक तकनीक गाइडलाइनर का सफल प्रदर्शन कर भारत का गौरव बढ़ाया। यह सम्मेलन ३० अक्टूबर से २ नवंबर २०१७ के दौरान अमेरिका में सम्पन्न हुआ।

डा. शर्मा ने बताया कि हार्ट की धमनियों में जमा कैल्शियम को पिछलाने के लिए ड्रिलिंग की जाती है,  इस तकनीक को रोटाबलेशन कहते हैं, जबकि अत्याधुनिक गाइडलाइनर तकनीक के तहत हार्ट की धमनियों में ब्लॉक को निकालने के लिए बहुत ही बारीक ट्यूब का उपयोग किया जाता है। ये दोनों ही तकनीक काफी सुरक्षित और प्रभावी हैं। इनके तहत कठिन से कठिन एंजियोप्लास्टी को काफी सरल एवं सुगम तरीके से अंजाम दिया जाता है। इस तरह यह अत्याधुनिक तकनीक हार्ट रोगियों के लिए उम्मीद की नई किरण है। इस तकनीक के उपयोग से हृदयरोग उपचार सफलता की दर लगभग शत-प्रतिशत तक पहुंच गई है।

डॉ. शर्मा अत्याधुनिक तकनीक के जरिए कई सफल एंजियोप्लास्टी कर चुके हैं। उनका कहना है कि यह बेहद प्रभावी एवं सुरक्षित तकनीक है। डॉ. शर्मा पिछले २१ वर्षों से बॉम्बे हॉस्पिटल में कार्यरत हैं। इस दौरान वे ८,००० से अधिक एंजियोप्लास्टी सफलतापूर्वक कर चुके हैं। उनकी उपलब्धियों के लिए उन्हें कई राष्ट्रीय एवं वैश्विक सम्मान मिल चुके है।