जेएटीएफ की ट्रेनिंग से निकले प्रशासनिक सेवा में चयनित अधिकारियों का शानदार...

जेएटीएफ की ट्रेनिंग से निकले प्रशासनिक सेवा में चयनित अधिकारियों का शानदार अभिनंदन

SHARE

मुंबई। भारत में सबसे मुश्किल मानी जानेवाली संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षाओं के लिए जीतो एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रेनिंग फाउंडेशन (जेएटीएफ) की ट्रेनिंग देश भर के जैन छात्रों में बहुत तेजी से लोकप्रिय होती जा रही है। शैक्षणिक क्षेत्र में, विशेषकर ट्रेनिंग एवं कोचिंग के मामले में जेएटीएफ की साख बहुत मजबूत हुई है। इस साल संघ लोक सेवा आयोग की विभिन्न परीक्षाओं के लिए जेएटीएफ से कुल 26 प्रतिभागियों का चयन होना अपने आप में काफी महत्वपूर्ण रहा। सिविल सेवाओं के प्रति जैन समाज के छात्रों को आकर्षित करने एवं उनको  बेहतरीन किस्म की रिजल्ट एरियंटेड़ कोचिंग दिए जाने के उद्देश्य से जेएटीएफ की स्थापना की गई थी। जेएटीएफ के कार्यों के प्रति समाज में जागृति लाने एवं जैन छात्रों को इसका अधिकाधिक लाभ लेने के सामाजिक संदेश को ध्यान में रखते हुए इस साल विभिन्न सेवाओं में सफल सभी चयनित 26 सिविल सेवा अभ्यर्थियों का अभिनंदन समारोह आयोजित किया गया। मुंबई एयरपोर्ट पर स्थित पांच सितारा होटल सहारा स्टार में आयोजित इस समारोह में इस साल के सभी सफल अभ्यर्थियों सहित जेएटीएफ के सदस्यों, जीतो के सदस्यों, मुंबई में पदस्थापित अधिकारीगणों एवं हाल ही में चयनित सिविल सेवा अधिकारियों सहित कुल 175 प्रमुख लोगों की उपस्थिति से कार्यक्रम में चार चांद लग गए।

जीतो एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रेनिंग फाउंडेशन (जेएटीएफ) के चेयरमेन सुभाषचंद्र रूणवाल, प्रेसिडेंट सुरेश मुथा, चीफ सेक्रेट्री नरेंद्र मेहता, संस्थापक अध्यक्ष प्रदीप राठोड़, पूर्व अध्यक्ष प्रकाश बी जैन एवं जेएटीएफ के संरक्षक सदस्यों सहित कई प्रमुख लोग इस समारोह में उपस्थित थे। जैन इंटरनेशनल ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (जीतो) के चेयरमेन मोतीलाल ओसवाल एवं प्रेसिडेंट शांतिलाल कंवर ने भी समारोह को संबोधित किया। इस अवसर पर वरिष्ठ आइएएस अधिकारी जयंत बांठिया एवं पीके जैन ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के अपने बहुमूल्य अनुभवों से नवचयनित अधिकारियों को अवगत कराया।

जेएटीएफ की ट्रेनिंग से निकलकर प्रशासनिक सेवाओं में चयनित इन सभी 26 नए अधिकारियों हेतु जेएटीएफ का यह अभिनंदन समारोह एक विशेष अनुभव साबित हुआ, जहां लंबे समय के प्रशासनिक अनुभवी और प्रभावशाली व्यक्तियों का मार्गदर्शन उनके लिए प्रेरणास्पद रहा। इस कार्यक्रम की योजना बनाने से लेकर प्रबंधन एवं संचालन तक के हर कार्य में जेएटीएफ के उपाध्यक्ष जेबी जैन की प्रमुख भूमिका रही।