इस साल का दर्शन सागर अवार्ड कोठारी, सुराणा और नागड़ा को मुंबई...

इस साल का दर्शन सागर अवार्ड कोठारी, सुराणा और नागड़ा को मुंबई के योगी सभागार में होगा शानदार आयोजन

SHARE

मुंबई। शिक्षा, चिकित्सा और समाजसेवा के लिए राष्ट्रीय स्तर पर दिया जाने वाला प्रतिष्ठित सम्मान ‘दर्शन सागर सूरीश्वर अवार्ड’ इस बार बुलियन किंग पृथ्वीराज कोठारी, उद्योगपति आनंद सुराणा एवं समाजसेवी सुंदरजी भाई नागड़ा को प्रदान किया जायेगा। राष्ट्रसंत आचार्य चन्द्रानन सागर सूरीश्वर महाराज के सान्निध्य में 9 सितंबर को ये सम्मान प्रदान किए जाएंगे। मुंबई में दादर स्टेशन के पास स्थित योगी सभागार में यह भव्य समारोह आयोजित होगा। देश भर से करीब पांच हज़ार लोग इस समारोह में भाग लेने के लिए विशेष रूप से आ रहे है।

विख्यात जैनाचार्य दर्शन सागर सूरीश्वर महाराज की पुण्य तिथि पर प्रतिवर्ष दिया जानेवाला आयोजित यह सम्मान देश के प्रतिष्ठित सम्मानों में से एक है। इस बार यह दसवां समारोह होगा। दर्शन सागर सम्मान समारोह समिति के प्रवीण शाह, मोती सेमलानी एवं निरंजन परिहार के मुताबिक देश के कई जाने माने और प्रतिष्ठित लोगों की उपस्थिति में होने वाले इस सम्मान समारोह में राजस्थान, गुजरात, कर्नाटक, तमिलनाड़ु एवं देश के कई अन्य राज्यों से कई लोग विशेष रूप से भाग लेने आ रहे हैं। भीनमाल निवासी बुलियन किंग पृथ्वीराज कोठारी, बैंगलोर निवासी उद्योगपति आनंद सुराणा एवं मुंबई में रहनेवाले समाजसेवी सुंदरजी भाई नागड़ा का समाजसेवा, शिक्षा सेवा एवं चिकित्सा कार्यों में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। समारोह में इन तीनों समाजसेवियों को राजस्थानी परंपरा से साफा पहनाकर शाल एवं श्रीफल प्रदान कर सम्मान चिन्ह देकर उनका अभिनन्दन किया जायेगा। योगी सभागार में 9 सितंबर को यह समारोह सुबह 10 बजे शुरू होगा।

सागर समुदाय के गच्छाधिपति रहे आचार्य दर्शन सागर सूरीश्वरजी महाराज की पुण्यतिथि पर पिछले ग्यारह सालों से हर साल दिया जानेवाले यह राष्ट्रीय स्तर का सम्मान दादर में पहली बार आयोजित हो रहा है। योगी सभागार में होनेवाले ‘दर्शन सागर अवार्डÓ समारोह में राष्ट्रसंत आचार्य चन्द्रानन सागर सूरीश्वर महाराज का महामंगालिक प्रवचन भी होगा। शिक्षा, चिकित्सा और समाजसेवा के लिए राष्ट्रीय स्तर पर प्रदान किए जा रहे इस अवॉर्ड समारोह की तैयारियां व्यापक पैमाने पर चल रही है। आचार्य चन्द्रानन सागर सूरीश्वर महाराज इस बार मुंबई के पायधुनी स्थित देश के पुराने जैन तीर्थों में से एक गोड़ीजी मंदिर में चातुर्मास पर बिराजमान हैं।