रेल मंत्री आएंगे राजस्थान मीटरगेज प्रवासी संघ के रेल विकास संवाद में

रेल मंत्री आएंगे राजस्थान मीटरगेज प्रवासी संघ के रेल विकास संवाद में

SHARE

मुंबई। राजस्थान में रेल सेवाओं के विकास और विस्तार के लिए समर्पित प्रमुख संस्था राजस्थान मीटरगेज प्रवासी संघ द्वारा रेल विकास संवाद का विशेष कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु इस कार्यक्रम में प्रमुख अतिथि होंगे। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, महाराष्ट्र विधानसभा के मुख्य सचेतक राज के पुरोहित एवं वरिष्ठ विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा सहित कई गणमान्य लोग इस मौके पर विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे। समाजसेवी विमल बोराणा स्मारिका विमोचन करेंगे एवं समाजसेवी कनकराज लोढ़ा समारोह की अध्यक्षता करैंगे। समाजसेवी मदनराज मुठलिया के हाथों समारोह का उदघाटन होगा एवं उत्तम के जैन समारोह में  स्वागताध्यक्ष के रूप में उपस्थित होंगे। नरीमन पॉइंट स्थित यशवंत राव चव्हाण सभागार में 15 जुलाई की शाम 6 बजे होनेवाला यह विशेष कार्यक्रम प्रवासी संघ के 39 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित किया जा रहा है। संस्था के अध्यक्ष चंपत मुत्ता, उपाध्यक्ष सुकन परमार एवं महामंत्री विमल रांका समारोह की तैयारियों में जुटे हुए हैं।

प्रवासी संघ के सिद्धराज लोढ़ा एवं निरंजन परिहार के मुताबिक रेल विकास संवाद में बीते चार दशक में राजस्थान में हुए रेल विकास में प्रवासी संघ की भूमिका पर विशेष फोकस रहेगा। इस अवसर पर राजस्थान में रेल सेवाओं के विकास के संघर्ष में प्रवासी संघ का हरसंभव सहयोग करनेवाले पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का नागरिक अभिनंदन किया जाएगा। इस समारोह में घीसूलाल बदामिया, इंदरभाई राणावत, वक्तावर रांका, फतेहचंद शाह जवाली, चंदन परमार सीए, फतेहचंद राणावत, मिश्रीमल ढेलरिया वोरा जैसे मुंबई के राजस्थानी समाज के कई प्रमुख लोग विशेष रूप से उपस्थित होंगे। प्रवासी संघ की कार्यसमिति के जुड़े रमेश शाह, देवराज जैन, कांति सी जैन, मूलचंद जैन, नरेंद्र मांडोत, कांति कितावत, जयंति परमार, पुखराज राठोड़ एवं रमेश सी. जैन आदि समारोह की सफलता में सहयोग कर रहे हैं। इसी समारोह में रेल विकास से संबंधी जानकारी से भरी राजस्थान मीटरगेज प्रवासी संघ की बहुप्रतीक्षित स्मारिका का विमोचन भी संपन्न होगा। रेल विकास संवाद में रेलवे के अधिकारी, मुंबई, गुजरात एवं राजस्थान में कार्यरत विभिन्न प्रवासी संघों से जुड़े पदाधिकारी एवं सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे।