सुनील सिंघी राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य मनोनित

सुनील सिंघी राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य मनोनित

SHARE

सिरोही। भारत सरकार ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग में जैन समाज को पहली बार प्रतिनिधित्व देते हुए सिरोही के मूल निवासी एवं गुजरात श्रम कल्याण बोर्ड के चेयरमेन सूनील सिंघी को आयोग का सदस्य मनोनित किया हैं। उनके मनोनयन का आदेश भारत सरकार के अल्पसंख्यक मंत्रालय ने जारी किया हैं।

श्री सिंघी अखिल भारतीय जैन श्वेताम्बर मूर्तिपूजक युवक महासंघ के अन्तर्राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप मे कार्य कर रहे है। सिंघी ने सिरोही मे शिक्षा ग्रहण करने के बाद गुजरात को अपना कार्य क्षेत्र एवं कर्मभूमि बनाते हुए राजनीति मे प्रवेश किया। गुजरात सरकार ने उनको गुजरात खनिज विकास निगम का डायरेक्टर बनाकर वाईस चेयरमेन बनाया। नरेन्द्र मोदी के मुख्यमंत्री बनने पर उन्हे भाजपा संगठन व सीएमओ मे भी कार्य करने का अवसर मिला। तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने उन्हे गुजरात श्रम कल्याण बोर्ड का अध्यक्ष मनोनित किया। श्रम कल्याण बोर्ड मे उन्होने श्रम कल्याण मे उनकी उपलब्धियो को ध्यान मे रखते हुए  मुख्यमंत्री श्री विजय रूपानी ने उन्हे दुबारा इसी पद पर मनोनित किया।

सिंघी भारत सरकार के खनिज उपक्रम एफसीआई अरावली जिप्सम एंड मिनरल्स इण्डिया लि. नई दिल्ली के निदेशक, विश्व विख्यात देलवाडा मंदिर के ट्रस्ट सेठ कल्याणजी परमानंदजी पेढी के ट्रस्टी सिंघी विश्व विख्यात श्री पावापुरी तीर्थ जीव मैत्रीधाम के भी ट्रस्टी है। वे जैन समाज के जीतो संगठन से भी जुडे हुए है। इसके अलावा भी वे विभिन्न जैन संगठनो के पदाधिकारी के रूप मे भी कार्यररत हैै। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने सिंघी को राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग मे जैन समाज का प्रतिनिधित्व करने का अवसर प्रदान करने पर सिंघी ने उनके प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार ने उन्हे एक नई जिम्मेदारी प्रदान की है जिसको मै पूर्ण निष्ठा एवं लग्न से पुरा करते हुए आयोग के कार्यो से हर स्तर पर लाभान्वित कर अल्पसंख्यको को पुरी मदद करूंगा। उन्होने अल्पसंख्यको से अपील की कि वे अल्पसंख्यक कल्याण के किसी भी कार्य के लिए नि:संकोच उनसे सम्पर्क कर उन्हे सेवा का अवसर प्रदान करें।