स्नेहालय के संस्कार शिवीर का शुभारंभ; स्नेहालय कार्यों में युवकों की भागीदारी...

स्नेहालय के संस्कार शिवीर का शुभारंभ; स्नेहालय कार्यों में युवकों की भागीदारी बढ़ाये – प्रा. नरेन्द्र काटीकर

SHARE

सोलापूर। स्नेहालय के समाज के उपेक्षित बालकों के पूनर्वसन संगोपन का कार्य उल्लेखनीय है। इन बालकों को सुंदर संस्कार देने के कार्यो में महाविद्यालय के युवकों को आगे आने की जरुरत है। युवक इस कार्य में भाग लेकर स्नेहालय के कार्यो को आगे बढ़ाए। ये विचार सोलापुर स्मार्टसिटी के को-ओर्डिनेटर डायरेक्टर प्रा. नरेन्द्र काटीकर ने स्नेहालय सामाजिक विश्वस्त संस्था द्वारा आयोजित बालकों के लिए १९ अप्रैल से १५ जून तक संस्कार शिबीर के उद्घाटन समारोह में व्यक्त किए। श्री काटीकर ने आगे कहा कि स्नेहालय के इन बालकों को समाज के मुख्यधारा में लाने का यह कार्य सराहनीय हैं। इस अवसर पर उन्होंने बालकों को स्मार्ट सिटी की संकल्पना के बारे में बताया। स्नेहालय के बालक निश्चित रुप से आदर्श नागरिक बनेंगे एसा विश्वास व्यक्त किया। शिवीर के उद्घाटन समारोह में ड्रिम फाऊंडेशन के अध्यक्ष काशीनाथ भतगुणकी, ह.भ.प. नाशिककर महाराज, विजयकुमार गाताडे, संगीत विशारद संतोष कोथलीकर, रेल्वे के सेशन इंजिनीयर राहुल उल्लागड़े, सौ. कल्पना शिंदे, स्नेहालय के विश्वस्त सौ. चंदाबेन शिंगवी एवं अन्य गणमान्य उपस्थित थे। शिवीर का शुभारंभ अतिथीयों द्वारा दिप प्रज्जवलीत कर किया गया। इस अवसर पर स्नेहालय द्वारा संचालित विद्यालय के सहयोग निधी हेतु आयोजित नाटक का मंचन एवं प्रवेशिका पूजन मान्यवरों द्वारा किया गया। नटराज एवं सरस्वती प्रतिमा का पूजन किया गया। ड्रिम फाउंडेशन के काशीनाथ भतगुणकी ने बालकों से मुक्त संवाद किया। शिस्त, चिकाटी, सराव, अभ्यास से आत्मविश्वास बढ़ता है। ऐसा मत उन्होंने प्रकट किया। बालकों ने उनके संवाद में भाग लिया।

इस संस्कार शिवीर में बालकों को विविध कला जिसमें संगीत, वाद्य, नाट्य, नृत्य, हस्तकला का समावेश है। ह.भ.प. नाशिककर महाराज महाराष्ट्र की लोकधारा इस पूर्व नियोजीत कार्यक्रम को बालकों द्वारा कराया जाएगा। विजयकुमार गातडे बालकों को चित्रकला का ज्ञान देंगे। संतोष कोथलीकर संगीत विषय पर जानकारी देंगे। कल्पना शिंदे बालकों को विविध हस्तकला, पाटकुलकर सर कथ्थक नृत्य, सौ. क्षितीजा गाताडे मेहंदी, रंगोली की कला सिखाएगी। कार्यक्रम का  संचालन शैलेन्द्र मंसलेकर ने किया। स्नेहालय की विश्वस्त सौ. चंदाबेन शिंगवी ने अतिथियों का स्वागत कर आभार प्रकट किया। कार्यक्रम का संचालन विद्यालय के मुख्याध्यापक शिरीष मते ने किया। इस आयोजन को सफल बनाने में स्नेहालय के अधिक्षक विकास वाघमोडे, अतुल मलमे, विनायक मदने, रविन्द्र गडदे, अर्चना शिंदे, व्यवस्थापिका वैशाली अकोलकर एवं शिंगवी विद्यालक के सभी शिक्षकों का सराहनीय योगदान रहा।