अन्तर्राष्ट्रीय वैश्य फेडरेशन बेंगलोर चेप्टर का उद्घाटन

अन्तर्राष्ट्रीय वैश्य फेडरेशन बेंगलोर चेप्टर का उद्घाटन

SHARE

बैंगलुरु। अंतर्राष्ट्रीय वैश्य फेडरेशन कर्नाटक के तत्वावधान में अंतर्राष्ट्रीय वैश्य फेडरेशन बेंगलुरु का उद्घाटन १५ मार्च को होटल श्रीनाथजी के सभागार में संपन्न हुआ। मुख्य अतिथि के रुप में कर्नाटक विधान परिषद सदस्य लहरसिंह सिरोया, विशेष अतिथि के रुप में जीतो अपेक्स के वाइस चेयरमेन प्रकाश सिंघवी, जीतो अपेक्स के निवर्तमान चेयरमेन तेजराज गुलेच्छा, आईवीएफ के मुख्य संरक्षक विजय अग्रवाल ने इस समारोह में बेंगलुरु चेप्टर के शुभारम्भ की घोषणा की।

आईवीएफ कर्नाटक के अध्यक्ष बिपिनराम अग्रवाल ने बेंगलूरू चेप्टर हेतु रमेश मेहता को अध्यक्ष एवं प्रशांत सिंघी को महामंत्री की नियुक्ति की घोषणा की। इस अवसर पर लहरसिंह सिरोया ने अपने उद्बोधन में कहा कि वैश्य समुदाय का परचम देश के हर कोने में फैला है। इस समुदाय में एक से बढक़र एक भामाशाह हैं जिन्होंने समय-समय पर अपनी मदद से समाज को गौरवान्वित किया है। उन्होंने कहा कि गीता प्रेस गोरखपुर के संस्थापक हनुमान प्रसाद पोद्दार भी वैश्य समुदाय से थे जिन्होंने सनातन धर्म को घर घर तक पहुंचाया। जिससे करोड़ो धर्म के मानने वाले लोग लाभान्वित हो रहे हैं। महाराणा प्रताप को मुगलों से लोहा लेने के लिए भामाशाह भी वैश्य थे। जिन्होंने मेवाड़ की रक्षा के लिए महाराणा प्रताप के लिए धन की थैली खोल दी। ऐसे अनेकों उदाहरण भरे पड़े हैं जहां वैश्य समाज ने मुक्त हस्त से योगदान दिया है। देश एवं राष्ट्रहित में ऐसे कई उदाहरण हैं जहाँ पर वैश्य समाज तन-मन धन से अपनी अग्रणी भूमिका निभा रहा है। इस अवसर पर विजय अग्रवाल ने वैश्य समाज की एकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि एकता में ही बल है। जब तक कोई समाज संगठित नहीं होगा, विकास की राह पर नहीं चला जा सकता है। जीतो अपेक्स के निवर्तमान चेयरमेन तेजराज गुलेच्छा ने अपने उद्बोधन में अनुशासन पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि अनुशासन-संगठन समाज की जड़ है, इसके बिना कोई भी संस्था मजबूती से खड़ी नहीं रह सकती। अनुशासन को हमेशा सर्वोपरि रखना होगा, सफलता अवश्य मिलेगी।

जीतो अपेक्स के वाइस चेयरमेन प्रकाश सिंघवी ने जीतो का उदाहरण सामने रखा, जो आज जैनों की सबसे बड़ी संस्था बनकर उभरी है। जिन्दगी एक दस गीयर वाली साइकिल की तरह है। हम में ज्यादातर लोगों के पास ऐसे गीयर हें जिसका हम कभी इस्तेमाल नहीं करते हैं। ऐसी बीस वजहें हैं जो हमें असफल बना सकती है। इन वजहों को दूर कर हम अपनी सफलता की राह में बाधा बनने वाले ब्रेकों को हटा सकते हैं।

इस अवसर पर नवनिर्वाचित अध्यक्ष रमेश मेहता ने वैश्य फेडरेशन की भावी योजनाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला। मेहता ने कहा कि हम कुछ दिये बिना कुछ पा भी नहीं सकते। हम जो लगाते हैं, बदल में वहीं पाते है। इसलिए हमें इस बात पर हमेशा ध्यान देना चाहिए कि हम वहीं लगाये जिसे पाने की जरुरत है।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में आईवीएफ के चेयरमेन सतीश जैन ने आगन्तुकों का स्वागत किया एवं आईवीएफ की गतिविधियों पर प्रकाश डाला। आईवीएफ के मंत्री अजय भाऊवाला ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन राज अग्रवाल एवं प्रशान्त सिंघी ने किया। इस अवसर पर माहेश्वरी, अग्रवाल जैन एवं खण्डेलवाल समाज के कई गणमान्य जन उपस्थित थे।

++++++++++++++