आशा महेश हिंगड चेरिटेबल ट्रस्ट – घाणेराव/मुंबई द्वारा घाणेराव में 14 करोड़...

आशा महेश हिंगड चेरिटेबल ट्रस्ट – घाणेराव/मुंबई द्वारा घाणेराव में 14 करोड़ की लागत से बनेगा 30 बेड का अस्पताल

SHARE

पूरे गोडवाड़ के ग्रामीणो को मिलेगा लाभ, अस्पताल का 75 प्रतिशत कार्य पूरा

घाणेराव। कस्बे सहित आसपास के गांवों के लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधा मिले इसको लेकर आशा महेश हिंगड़ चेरीटेबल ट्रस्ट द्वारा घाणेराव में 14 करोड़ रुपए की लागत से आधुनिक सुविधाओं से युक्त अस्पताल का निर्माण करवाया जा रहा है। इस अस्पताल का निर्माण होने के बाद ग्रामीणों को उपचार के लिए अन्य शहरों में नहीं जाना पड़ेगा। उल्लेखनीय है कि घाणेराव कस्बे में वर्षों तक उप स्वास्थ्य केंद्र पर ही ग्रामीणों का उपचार होता रहा। जबकि गांव में प्राथमिक चिकित्सालय की मांग वर्षों से ग्रामीण करते रहे थे। ऐसे में 5 वर्ष पूर्व राज्य की अशोक गहलोत सरकार ने ग्रामीणों की मांग पर उप स्वास्थ्य केंद्र को प्राथमिक चिकित्सालय में क्रमोन्नत कर दिया। जिसके बाद घाणेराव में आधुनिक सुविधा से युक्त अपस्ताल के निर्माण को लेकर ग्रामीणों ने दानदाता के समक्ष प्रस्ताव रखा है। जिसके बाद आशा महेश हिंगड़ चेरिटेबल ट्रस्ट घाणेराव/मुंबई ने ग्रामीणों की मांग पर आधुनिक चिकित्सालय बनाने की जिम्मेदारी लेते हुए अस्पताल निर्माण के लिए भूमि खरीदकर दो वर्ष पूर्व निर्माण कार्य शुरू कर दिया।

Asha Mahesh Hingad Trust

इसका निर्माण कार्य लगभग 75 प्रतिशत पूर्ण हो चुका है। वहीं आशा महेश हिंगड ट्रस्ट द्वारा इस प्राथमिक चिकित्सालय को सामुदायिक चिकित्सालय में क्रमोन्नत कराने को लेकर राज्य सरकार के पास प्रस्ताव भेजा है। जिससे इस अपस्ताल में सी.एस.सी स्तर की सुविधा मरीजों को मिल सके। अगर राज्य सरकार ने ट्रस्ट के इस प्रस्ताव को मान लिया तो जिले में यह प्रथम सरकारी अपस्ताल होगा, जिसमें सभी आधुनिक उपचार की सुविधा उपलब्ध होगी। इसको लेकर दानदाता परिवार द्वारा अपस्ताल में आधुनिक सुविधा को लेकर करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। बस ट्रस्ट को इंतजार है पी.एस.सी से सी. एस. सी. में क्रमोन्नत होने का है। इस अस्पताल के निर्माण होने से घाणेराव सहित आसपास के दर्जनों गांवों के लोगों को लाभ मिलेगा। वहीं इस अपस्ताल के शुरू होने का क्षेत्र के बाशिंदे इंतजार कर रहे हैं, क्योंकि उन्हें उपचार के लिए अन्य शहरों में जाने की जरूर नहीं पड़ेगी।