के. सी. जैन होंगे भारत जैन महामंडल के आगामी अध्यक्ष

के. सी. जैन होंगे भारत जैन महामंडल के आगामी अध्यक्ष

SHARE

मुंबई। समग्र जैन समाज की प्रतिनिधित्व करने वाली १२५ वर्षीय पुरानी संस्था भारत जैन महामंडल की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक रमेश कुमार धाकड़ की अध्यक्षता में संपन्न हुई। धाकड़ ने स्वागत भाषण में कहा कि देश की अर्थव्यवस्था करवट ले रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा नोट बंदी की घोषणा के बाद आने वाला समय व्यवसाय एवं उद्योग की दशा एवं दिशा तय करेगा। महामंत्री बाबूलाल बापना ने संचालन करते हुए गत कार्यकारिणी बैठक के मिनिट्स का वाचन किया। उन्होंने कहा कि भारत जैन महामंडल की परंपरा के अनुसार भावी अध्यक्ष की घोषणा ३ महीने पूर्व ही कर दी जाती है। धाकड़ का अध्यक्षीय कार्यकाल मार्च २०१७ में संपन्न होने जा रहा है। प्रत्येक जैन संप्रदाय को ३-३ वर्ष का कार्यकाल मिलता है। आगामी कार्यकाल दिगंबर जैन समाज का है। भावी अध्यक्ष के नामांकन प्रक्रिया के तहत उपाध्यक्ष जगदीश उमरिया ने के. सी. जैन के नाम का प्रस्ताव रखा। कोषाध्यक्ष सुरेश जैन ने समर्थन किया। पूरे सदन ने सर्व सम्मति प्रदान करते हुए के. सी. जैन को अप्रैल २०१७ से मार्च २०२० के लिए अध्यक्ष घोषित किया। के. सी. जैन ने अपने संबोधन में कहा कि आज मेरे जीवन का गौरवशाली दिन है। मेरे सामाजिक जीवन का स्वर्णिम दिन है, जिसे में शब्दों से अभिव्यक्त नहीं कर सकता। अध्यक्ष रमेश धाकड़, महामंत्री बाबूलाल बापना के नेतृत्व में जो महामंडल को नई ऊंचाइयां दी है, विकास की नई इबारत लिखी है उसी को बरकरार रखना मेरे लिए चुनौती पूर्ण होगा। मैं गौरवशाली परंपरा के अनुरूप कार्य करुंगा। सुमतिलाल कर्णावट ने महामंडल को पूरे जैन समाज के प्रतिनिधित्व संस्था बताया। इस अवसर पर विजय सिंह बेद, घनश्याम मोदी, नरेश परमार, डा. नेमीचंद छाजेड, किशोर खाबिया, विनोद वडाला, प्रशांत जवेरी सहित कई सदस्य उपस्थित थे।