घाणेराव के युवा मनीष कोठारी ज्वेल्स ऑफ राजस्थान से सम्मानित

घाणेराव के युवा मनीष कोठारी ज्वेल्स ऑफ राजस्थान से सम्मानित

SHARE
(फोटो बड़ा करने हेतु क्लिक करें / Click to Enlarge)

जयपुर। प्रतिभाये किसी परिचय का मोहताज नही होती, वे मेहनत और लगन से अपना रास्ता स्वयं तलाश लेती है ऐसी ही एक प्रतिभा का नाम है घाणेराव/हुबली निवासी मनीष प्रकाशजी कोठारी जिन्हें हाल ही में AGR Group द्वारा जयपुर में आयोजित एक भव्य समारोह में ज्वेल्स ऑफ राजस्थान से सम्मानित किया गया। AGR Group द्वारा विश्व भर में फैले हुये राजस्थानी अग्रणीयों को सम्मानित किया जाता है।

(फोटो बड़ा करने हेतु क्लिक करें / Click to Enlarge)
(फोटो बड़ा करने हेतु क्लिक करें / Click to Enlarge)

बैंगलुरु में जन्में, घाणेराव निवासी वरिष्ठ समाज सेवी स्व. प्रेमचंदजी कोठारी के पौत्र एवं युवा उद्योगपति प्रकाशजी कोठारी के पुत्र मनीष कोठारी ने अपने कम उम्र में शिक्षा के क्षेत्र में कई किर्तीमान स्थापित किया है। २४ वर्ष की उम्र में ही उन्होंने अपने पिता के सपनों को साकार करते हुए अपनी पहली कॉलेज की स्थापना की। आज वे बैंगलुरु की प्रतिष्ठित ISBR Business School के संस्थापक व मैनेजिंग डायरेक्टर एवं Oxford Group of Colleges के संस्थापक चेयरमेन केपद पर आसीन होते हुए देश के युवाओं को उनके सपनों को पूरा कराते हुए, देश की प्रगती की ओर सक्षम बनाने का एक सराहनीय कार्य कर रहे है।

२००४ में मनीष कोठारी को KLE Group द्वारा Business Excellence Award से सम्मानित किया गया था। २००६ में उन्हें गोडवाड गौरव से नवाजा गया, जो जैन समाज के उच्च उपलब्धि पाने वाले हस्तीयों को दिया जाता है। लायन्स क्लब इंटरनेशनल द्वारा २०१० में उन्हें यंग अचिवर्स अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। हुबली में स्थापित Oxford College अपने क्षेत्र की सर्वश्रेष्ठ कॉलेजों मे से एक है। २००७-१० के दौरान भारती ग्रुप ने लगातार तीन वर्षों तक ISBR Business School (Bengaluru) को Business Excellence Award से सम्मानित किया।

शिक्षा के प्रति मनीष कोठारी के लगाव का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि वे अपने समय में KLE College में Gold Medalist रहे हैं और K.L.E Institute of Management Studies & Research से MBA किया और कॉलेज के श्रेष्ठ विद्यार्थियों में गिने जाते थे। शिक्षा कभी पूरी नही होती और जीवन में लगातार कुछ नया सिखने की इस भावना को आगे बढ़ाते हुए मनीष कोठारी अब University of Mysore से PhD कर रहे है।

१३ साल के अपने व्यापारिक सफर के बाद आज मनीष कोठारी देश भर में ७ संस्थाओं का संचालन कर रहे है। कोयंबटूर में तमिलनाडू इलेक्ट्रिक बोर्ड के लिए विंडमिल (पवन चक्की) द्वारा उर्जा प्रदान कर रहे है। देश के युवाओं को और भी ज्यादा उद्यमी बनाने हेतू हाल ही में उन्होंने ISBR Research Centre for PhD Education और Kothari institute of Technology and Entrepreneurship की भी शुरुआत की है।