सर्वोदय पाश्र्वनाथ जिनालय में चढ़ावे को उमड़ा भक्तों का सैलाब

सर्वोदय पाश्र्वनाथ जिनालय में चढ़ावे को उमड़ा भक्तों का सैलाब

SHARE

मुंबई। सर्वोदय पाश्र्वनाथ जिनालय मुलुंड की विरल धन्यधरा पर राष्ट्रसंत आचार्य श्री चन्द्रानन सागरसूरीश्वरजी म.सा. के मुखारबिंद से बेसते महीने की महामांगलिक का श्रवण करने और सिद्धाचल शाश्वत महातीर्थ पालीताणा की पावन भूमि की मेन तलेटी रोड पर स्थित त्रिलोक दर्शन धर्मशाला में नवनिर्मित श्री पाश्र्वनाथ परमात्मा के जिनालय की आने वाले जून महीने में होने वाली अंजनशलाका प्रतिष्ठा महामहोत्सव के चढ़ावे का लाभ लेने के लिए भारतभर एवं दुबई से गुरु भक्तों का सैलाब उमड़ा।

sarvoday parshvnath1पूज्य गुरुदेव श्री अपने प्रवचन में बताया कि जो जीवन में पुण्य से मिली लक्ष्मी का सदुपयोग यदि देव गुरु और धर्म के ऐसे शुभ अवसर पर नहीं करता है, उसका जीवन और लक्ष्मी दोनों ही व्यर्थ है। इस पावन मंगलमल वेला में पंन्यासप्रवर श्री गुणचंद्रसागरजी म.सा. मुनि श्री हरिशचन्द्रसागरजी म.सा., मुनिश्री पुष्पचंद्रसागरजी म.सा., मुनिश्री जैनेशचंद्रसागरजी म.सा., मुनि श्री मननचंद्रसागरजी एवं विदुषी साध्वी श्री कल्पिताश्रीजी म.सा., साध्वी श्री चारुताश्रीजी म.सा., साध्वी श्री आशिताश्रीजी म.सा., साध्वी श्री रिशिता श्रीजी म.सा., का पावन सानिध्य रहा।

 इस शुभ अवसर पर गाजे बाजे के साथ झूमते हुए आकर श्री सुमतिनाथ मूर्तिपूजक जैन संघ मारवाड़ जंक्शन ने गुरुदेव श्री से अंजनशलाका प्रतिष्ठा का मुहुर्त फरमाने और राजस्थान पधारकर जिनालय की अंजनशलाका प्रतिष्ठा में निश्रा प्रदान करने की विनंती की। पूज्य गुरुदेव ने १ फरवरी माह २०१७ का शुभ मुहुर्त दिया एवं निश्रा प्रदान की घोषणा की। पालीताणा में होने वाले अंजनशलाका प्रतिष्ठा के लिए सर्वप्रथम मुनिमजी बनन का चढ़ावा दिया गया, जिसका श्रीमती पानीदेवी बाबूलालजी मेहता परिवार सिणधरी, सूरत के लाभ लिया इसके बाद अन्य पूजा पूजन के चढ़ावे दिए गए लाभार्थी परिवारों का बहुमान किया गया।

 

श्री त्रिलोक दर्शन जैन रिलिजियस ट्रस्ट मंडल, श्री नित्यचंद्रदर्शन जैन रिलिजियस ट्रस्ट मंडल, श्री नाकोड़ा भैरव दर्शन धाम महातीर्थ ट्रस्ट मंडल, श्री सर्वोदय पाश्र्वनाथ जैन चेरिटेबल ट्रस्ट मंडल के ट्रस्टीगणों में से जयंतीलाल जैन, चम्पालाल दौलानी, अमरिश पीपाडा, दिनेश ज्योतीचंदजी तेलीसरा, कांतिलाल सुंदेशा मुथा, कांतिलाल लौहार, भावीन शाह, मलकेश मेहता, राकेश सुंंदेशा मुथा, वसंत कोठारी रोहा, प्रकाश मेहता सूरत, अम्बालाल कोठारी, जगदीश जैन, रतन जैन, राकेश तेली, श्रेणीक शाह, रश्मिन शाह आदि की गरीमामयी उपस्थिति रही।