आचार्य श्री यशोवर्म सूरीश्वरजी म.सा. के प्रवचन में उमड़ा जन सैलाब

आचार्य श्री यशोवर्म सूरीश्वरजी म.सा. के प्रवचन में उमड़ा जन सैलाब

SHARE

ठाणा। कोकण शत्रुंजय तीर्थ ठाणा में आचार्य श्री यशोवर्म सूरीश्वरजी म.सा., तपस्वीरत्न आचार्य पद्मयश सूरीश्वरजी म.सा., आचार्य विरयश सूरीश्वरजी म.सा. आचार्य अजितयश सूरीश्वरजी म.सा. आदि ठाणा -२३ व साध्वीश्रीजी विपूल मालाश्रीजी आदि ठाणा – १८ का वर्षावास चल रहा है। प.पू. हृदयस्पर्शी प्रवचनकार आचार्य श्री यशोवर्म सूरीश्वरजी म.सा. द्वारा प्रतिदिन प्रवचन की गंगा बह रही है। इसी कड़ी में शंका का झेर, मचा दे केरÓ विषय पर जाहिर प्रवचन रखा गया था। जिसमें पुज्यश्री ने कहा कि शंका का झेर जब चढ़ता है तो फिर उसे उतारने की कोई दवा या मंत्र नहीं है।

बिच्छू और साँप के जहर को उतारने के लिए मंत्र और दवा है, घर में हुई दिमक की दवा है परन्तु शंका की कोई दवा नही है।Óघर घर में एकमात्र शंका की वजह से झगड़े, ब्लेकमेल एक-दुसरे पर आक्षेप व टुटते परिवार का कारण बन रहे है।