आचार्य श्री रविशेखर सूरीश्वरजी म.सा. का झीलवाडा में मंगल प्रवेश

आचार्य श्री रविशेखर सूरीश्वरजी म.सा. का झीलवाडा में मंगल प्रवेश

SHARE


झीलवाडा। मेवाड केसरी, जीव दया प्रेरक आचार्य श्री रविशेखर सूरीश्वरजी म.सा. का चार्तुमास झीलवाडा में मंगल प्रवेश लवाजमा के साथ हुआ। इसमें पूर्व चारभुजा स्थित हिमाचल सूरी चौराहा से ऊंट, घोडा-गाडी, रथ झांकिया, ढोल, राजस्थानी गैर मंडली व बैण्डबाजों की साथ आचार्य ने पदार्पण किया। जैन अनुयायी जिन सासन देवों का जयकारा लगा रहे थे। महिलाएं मांगलिक गीत गाती साध्वी व्रतों के पीछे पीछे चल रही थी। दो घंटों में शोभा यात्रा झीलवाडी गण्डप स्थल पहुंची जहां आचार्य का पुष्प वर्षा व तोप दाग कर स्वागत किया। झीलवाडा पहुंच कर आचार्य ने आदिनाथ परमात्मा के दर्शन किए। इसके बाद मंडप में प्रवेश किया।
जहां संगीतकार अशोक व सुमित ने नवकार मंत्र से भावभरा स्वागत किया। आचार्य ने धर्मप्रेमियों से कहा कि चातुर्मास मानवीय जीवन साधना का अवसर है। सत्य, संयम का बीजारोपण कर संस्कारवान बने। मुनिवर ललित शेखर, नभरत्न शेखर ने भी विचार रखे। विभिन्न क्षेत्रों से आए संघ पदाधिकारीयों का झीलवाडा आदिनाथ सकल संघ की ओर से बहुमान किया। इन्द्रमल धूपिया पालितणा, मोहनलाल पामेचा, देवीलाल कोठारी, चन्दनमल सिंघवी, बाबूभाई राठौड, अशोक बापना, शिवलाल पोखरनाा ने विचार रखे। आदिनाथ जैन श्वेताम्बर मूर्तिपूजक संघ झीलवाडा को अध्यक्ष श्रीपाल कोठारी व मंत्री मनोहर सिसोदिया ने स्वागत उद्बोधन व आभार व्यक्त किया।