नाकोड़ा दरबार (मंडल) लालबाग मुंबई द्वारा आयोजित संघोत्सव जात्रा-3 गिरनार, पालितणा, कलिकुंड,...

नाकोड़ा दरबार (मंडल) लालबाग मुंबई द्वारा आयोजित संघोत्सव जात्रा-3 गिरनार, पालितणा, कलिकुंड, अजारा आदि तीर्थ यात्रा का आयोजन संपन्न

SHARE
click to enlarge

मुंबई। भक्ति, सेवा और सहयोग की उत्तम भावना से लवरेज सतत् सक्रिय नाकोड़ा दरबार (मंडल) लालबाग द्वारा आयोजित संघोत्सव जात्रा-(3) सानंद सम्पन्न हुई, इस यात्रा कार्यक्रम में, करीब 375 यात्रियों ने मुंबई से राजगृही तीर्थ, डोलिया तीर्थ, श्री महावीरपुराम, श्रीगिरनार तिर्थ, प्रभाष पाटणतीर्थ, श्रीसोमनाथ तीर्थ श्री अजारा तीर्थ, श्री पालितणा तीर्थ, श्री अयोध्यापुरम तीर्थ, श्री वटामण तीर्थ, श्री कीर्तिस्तम्भ तीर्थ और श्री कलिकुंड तीर्थ की जात्रा की। नाकोड़ा दरबार के संस्थापक अध्यक्ष मनोज एम. शोभावत के कुशल नेतृत्व में ऐसा महत्वपूर्ण यादगार-शानदार व जानदार सात दिवसीय संघ हर लहजे से सफलता के परचम लहराने में अव्वल रहा। दि. 2.6.२०16 को श्री नाकोड़ा पाश्र्व प्रभु के दिव्य आशीष, श्री भैरूदादा की प्रेरणा एवं राष्ट्रसंत प. पू. आचार्य श्री चंद्राननसागर सूरीश्वरजी म.सा. के आर्शीवाद से 232 ए.सी. लक्जरी दस बसो द्वारा करीबन 375 यात्रियों को लेकर संघ रवाना हुआ। जिसका पहला पड़ाव दि. 3.6.२०16 को सुबह राजगृही तीर्थ में हुआ। वहा से संघोत्सव का काफिला दोपहर को डोलिया तीर्थ पंहुचा डोलिया तीर्थ से शाम को महावीरपुरम पंहुचा। जहाँ शाम की आरती और रात्रि भव्य भक्ति भावना का कार्यक्रम हुआ। वहाँ से संघोत्सव का काफिला रात्रि गिरनार तीर्थ पर पंहुचा दूसरे दिन दि. 4.6.२०16 को सभी तीर्थ यात्रियों ने पहाड़ यात्रा की उसके बाद सुबह का नास्ता, भोजन और शाम का भोजन के साथ मेहंदी वितरण और रात्रि भव्य भक्ति भावना गिरनार तीर्थ पर हुई।

nakoda darbarगिरनार तीर्थ से दि 5.6.२०16 को सुबह प्रभाष पाटन तीर्थ, वहाँ से दोपहर को सोमनाथ दर्शन सोमनाथ से शाम को अजारा तीर्थ में आरती और भव्य भक्ति भावना का कार्यक्रम संपन हुआ। अजारा तीर्थ से संघ रात को पालितना तीर्थ के लिये रवाना हुआ। दि. 6.6.२०16 को सुबह तीर्थ यात्रियों ने पहाड़ यात्रा की, सभी संघ यात्रियों के पैरो के अंगुठे को दूध और जल से धोया गया, जिसका लाभ मातुश्री कंचनबेन नथमलजी कोठारी (कोसेलाव) परिवार को मिला। शाम को संघोत्सव में पधारे पुरुष यात्री साफे और सफ़ेद ड्रेस मे तथा बहने लाल चुनरी मे, बेंड बाजे, रथ के साथ में नाचते, गाते तलेटी दर्शन हेतु गये। ये नजारा अद्भुत अद्वितीय और अनोखा था, इसका लाभ मास्टर हियांश विनय शोभावत परिवार (खिवान्दी) वालो ने लिया। साथ ही रात्रि मे भव्य भक्ति सम्पन्न हुई, इस अवसर पर संगीतकार अमितभाई बारोट विशेष रूप से पधारे और अपनी मधुर आवाज से सभी भक्तो को खुब भक्ति में झुमाया। इसी भक्ति के कार्यक्रम में लाभार्थी परिवार, स्वयंसेवक, स्वयं सेविकाये आदि का बहुमान नाकोड़ा दरबार द्वारा किया गया। इस अवसर पर तीर्थ यात्रियों द्वारा नाकोड़ा दरबार के सभी सदस्यों का बहुमान किया गया।

सभी तीर्थो पर बहनो के लिये सुबह प्रभाती गीत, शाम को फुलेरा गीत का कार्यक्रम भी रखा गया था। साथ ही हर तीर्थ पर परमात्मा को अष्ट प्रकार की पूजा सामग्री का थाल भी अर्पण किया गया। सम्पूर्ण संघोत्सव मे हर दिन संजय रांका (भायंदर) की सुमधुर स्वरलहरियों तथा सुराहवलियो प्रसारित होती रही। साथ ही मंच संचालक भरत एन. कोठारी (भायंदर) के शब्दों मे भक्ति भावना का ऐसा समा बाँधा की यह कार्यक्रम आने वाले लंबे समय तक उपस्तिथ भक्तो के मानस पटल पर स्मृतिया बनकर अंकित रहेगा।मंडल द्वारा दोनों का बहुमान किया गया। दि. 7.6.२०16 को संघ सुबह पालितना तीर्थ से अढ़ीदिप तीर्थ, राजेन्द्र विधाधाम तीर्थ, अयोध्यापुरम तीर्थ, वटामण तीर्थ होते हुये शाम को कलिकुंड तीर्थ पंहुचा।वहां आरती और रात को भव्य भक्ति भावना संपन हुई। परमात्मा, गुरुदेव और भैरुदादा की कृपा से सभी तिर्थो की जात्रा निर्विघ्न तथा खूब आनद और उल्हास से सम्पन्न हुई। इस तरह यह संघ दिल मे मीठी स्मृतिया लेकर दि. 8.6.२०16 को सकुशल मुम्बई पंहुचा। संघोत्सव में महाराणा कैटर्स की सुमधुर बानगियो से सुन्दर व्यवस्था प्रदान की नाकोडा दरबार (मंडल) लालबाग के संस्थापक अध्यक्ष मनोजभाई शोभावत के सिंह जैसे पराक्रमी नेतृत्व में मंडल के सभी सदस्यों ने पद व प्रतिष्ठा से परे संघोत्सव को यादगार बनाने की दिशा में कर्मठता से कर्म कर स्वर्णिम इतिहास रच डाला। नाकोड़ा दरबार ने स्थापना से लेकर अब तक जो कार्य किये है।उस फेहरिस्त में एक और सितारा संघोत्सव जात्रा-3 की सफलता से जोड़ दिया। संघोत्सव में हर कार्यक्रम समयानुसार व् नियमानुसार संपन हुआ। इस संघोत्सव में नाकोड़ा दरबार के सभी कार्यकर्ताओ का सराहनीय योगदान रहा।