संत और सैनिक दोनों ही करते हैं रक्षा – गच्छाधिपति आचार्य श्री...

संत और सैनिक दोनों ही करते हैं रक्षा – गच्छाधिपति आचार्य श्री नित्यानंदसूरीश्वरजी म.सा.

SHARE

भायंदर। संत और सैनिक दोनों ही रक्षा का काम करते हैं। एक धर्म की रक्षा करता हैं तो दूसरा देश की रक्षा में २४ घंटे कार्यरत रहता है। देश की एकता अखंडता को बनाए रखने में संत की जितनी भूमिका होती हैं उतनी ही जिम्मेदारी सैनिक की भी होती है। सिपाही को देश की रक्षा के लिये तो संत का धर्म की रक्षा के लिए २४ घंटे चौकन्ना रहना पड़ता है। उपरोक्त विचार पंजाब केसरी आचार्य श्री वल्लभसूरिश्वरजी म.सा. समुदाय के वर्तमान गच्छाधिपति शांतिदूत आचार्य श्री विजय नित्यानंदसूरिश्वरजी म.सा. ने व्यक्त किये। भायंदर (पश्चिम) स्थित जे एच पोद्दार स्कूल में वीडीजे ग्रुप की और से रेलवे सुरक्षा बल के लिए मीरा-भायंदर महानगरपालिका की महापौर गीता भरत जैन के सौजन्य से आयोजित लाइफ चेंजिंग सेमीनार में व्यक्त किये। गुरुदेव के मंगलाचरण के बाद उनके शिष्य मुनिराज मोक्षानंदजी म.सा. ने एकता अखंडता, व्यसन मुक्ति, दायित्व, देश भक्ति आदि विषयों पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने जैन पद्धति से जीवन जीने की कल पर अपने विचार व्यक्त किये। सेमिनार के दूसरे सत्र में लायन राधेश्याम मौर्य ने सकारात्मक विचार सहित कई विषयों पर विस्तार से बताया। उन्होंने कहा की जीवन में आगे बढने के लिए सकारात्मक होना जरुरी है। महापौर गीता जैन ने कहा कि आरपीएफ की मनपा से जो भी समस्या हल हो सकती है उसे वो हल करेगी। सुरक्षा अयुक्त आनंद विजय झा ने इस तरह के सेमिनार का आयोजन करने हेतु आयोजकों को बधाई दी एवं एसे कार्यक्रमों को करने को कहा। इस अवसर पर दुबई में कराऐ खेल में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतनेवाली प्रियंमवदा मौर्य को सम्मानित किया गया। सेमिनार में समाजसेवी रमेश बंबोरी, रवि बी. जैन, नगरसेवक डा. रमेश जैन, नगरसेविका प्रतिभा पाटिल, भाजपा महिला अध्यक्ष निर्मला माखीजा, अनिल शाह, लायन अब्बासभाई जेत फरवाला, रवि के. जैन सहित अनेक मान्यवर उपस्थित थे। आभार कमलेश शाह एवं कार्यक्रम का संचालन वीडीजे ग्रुप के दीपक जैन ने व्यक्त किया।