श्री अभिनव महावीर धाम द्वारा अभिनव जैन आयडोल २०१६ ‘टॅलेन्ट कोनटेस्ट’ का...

श्री अभिनव महावीर धाम द्वारा अभिनव जैन आयडोल २०१६ ‘टॅलेन्ट कोनटेस्ट’ का आयोजन संपन्न

SHARE

मुंबई। श्री वर्धमान जैन बोर्डिग हाऊस सुमेरपुर द्वारा संचालित श्री अभिनव महावीर धाम का अनोखा आयोजन अभिनव जैन आयडोल २०१६ ‘अ टॅलेन्ट कोनटेस्ट’ जिसके अंतर्गत राजस्थानी पोरवाल समाज के नवयुवक युवतियों में छुपे अनेक कलाओं को समाज के समक्ष प्रदर्शित करने हेतु एक भव्य मंच मुंबई के बिरला मातृश्री में संपन्न हुआ। प्रतियोगिता हेतु १०८ आवेदन पत्र प्राप्त हुए जिनमें से ऑडिशन के माध्यम से परिक्षकों द्वारा १९ प्रतियोगी को गायन, नृत्य एवं अन्य कलाओं हेतु चुने गये। इन्ही मे से प्रथम, द्वितीय व तृतीय पुरस्कार एवं अन्य प्रतियोगियों के लिए प्रोत्साहित पुरस्कार अवार्ड लाभार्थी परिवार अॅड किरण जैन चांदराई के परिवार द्वारा वितरण किया गया। कार्यक्रम दौरान मुख्य अतिथी एम.आई.जैन नाणा, विशेष अतिथी श्री वस्तुपाल प्रतापजी मालवाड़ा एवं सम्मानीय अतिथी श्री तनसुखलाल उमेदमलजी संघवी नारलाई मंचासीन थे। सम्पूर्ण कार्यक्रम के लाभार्थी रुपारेल रियल्टी, रिर्टन प्राईज लाभार्थी शातिलाल शोभावत, खिवांदी एवं अन्य लाभार्थी, भरत बी. जैन-बेडा, संस्था के पदाधिकारी मंच पर उपस्थित थे। संस्था अध्यक्ष उम्मेदमल पुनमचंदजी साकरिया, नाणा ने संस्था की जानकारी हेतु युवा वर्ग को समाज के क्षेत्र में कार्यरत होने हेतु प्रेरित किया। साथ ही सुमेरपुर स्थित श्री अभिनव महावीर धाम के प्रांगण में निर्माणाधिन वातानुकुलित नुतन अतिथी गृह जिसमें ३६ कमरे एवं एक भव्य सभागृह की व्यवस्था की जानकारी देते ही अनेक दानदाताओं ने लाभ लेकर इस कार्य की तहेदिल से सराहना की। संस्था के सचिव शांतिलाल शोभावत द्वारा सारे १०८ प्रतियोगी एवं उनके परिवार को धन्यवाद देते हुए सभा में उपस्थित समाज सेवी एवं अन्य समानीय महानुभावों व पधोर हुए सभी मेहमानों का अंत:करण से धन्यवाद दिया। दर्शको से खचाखच भरे हॉल में अभिनव जैन आयडोल के डायरेक्टर विपुल समानी की टीम सहित सोहनलाल जैन लुणावा, फुलचंद चौहान लुणावा, भरत बी. जैन एवं कमलेश संघवी नारलाई के योगदान की ट्रस्ट मंडल ने सराहना की। श्री अभिनव महावीर धाम बुक का विमोचन रमेशचंद्र तेजराजजी बिलोशा शिवगंज निवासी के कर कमलों से किया गया। कार्यक्रम के पश्चात स्वरुचि भोजन की सुंदर व्यवस्था रखी गई। जिसे लाभार्थी मातुश्री हुल्लासीबेन भीकमचंदजी धुलाजी बेडा वाले थे।