श्रीमती शकुनदेवी मुलतानमलजी मेहता चेरिटेबल ट्रस्ट डायलाना के विकास हेतु आगे आया

श्रीमती शकुनदेवी मुलतानमलजी मेहता चेरिटेबल ट्रस्ट डायलाना के विकास हेतु आगे आया

SHARE

मुंबई। सामाजिक व सार्वजनिक हितो के कार्यों में संलग्न श्रीमती शकुनदेवी मुलतानमलजी मेहता चेरीटेबल ट्रस्ट जो मेहता परिवार द्वारा स्थापित सार्वजनिक ट्रस्ट हैं। ट्रस्ट के चेयरमेन श्री कांतिलाल मेहता ने अपने पैतृक गांव डायलाना के विकास कार्यो विभिन्न योजनाओं को कार्यान्वित कराने हेतु एक पत्र लिखकर सरपंच से सहमति मांगी है। ट्रस्ट द्वारा मुख्य द्वार, अस्पताल निर्माण, बैंक भवन एवं पानी की सुविधा हेतु पंचायत और गांव के सभी वर्गो (छतीस कौंम) से रजामंदी मांगी है। श्री मेहता ने शताब्दी गौरव संवाददाता को बताया कि इन सभी योजनाओं की देखभाल हेतु ११ सदस्यों की समिति गठन करने का सुझाव दिया है। जिसमें स्थानीय गांव के पांच सदस्य एवं ट्रस्ट की ओर से छ: सदस्य नामित किए जाएंगे। योजनाओं की सूचि इस प्रकार है।

मुख्य द्वार (मेन गेट) – गाँव के प्रवेश पर एक पुराना मेन गेट बना हुआ है उसे तोडकर उसी जगह पर एक नया मेन गेट बनवाना चाहते हैं। चूंकी पुराने गेट पर किसी व्यक्ति या संस्था का नाम नही है इसलिये नया मेन गेट बनाने में किसी व्यक्ति या संस्था को किसी तरह की आपत्ति नहीं होनी चाहिये ये मेन गेट गांव की शोभा में वृद्धि करेगा।

अस्पताल (हॉस्पीटल) –  गांव में एक पुराना अस्पताल बना हुआ है। उसी स्थान पर एक नवीन आधुनिक अस्पताल भवन का निर्माण करना चाहते हैं। अस्पताल भवन व निर्माण पंचायत द्वारा सुझाए गये और स्वीकृत किये हुये नक्शे के अनुसार किया जायेगा। अस्पताल भवन सम्पूर्ण रुप से तैयार करके पंचायत अथवा राज्य सरकार को सौंपा जायेगा तथा अस्पताल के संचालन की सम्पूर्ण जिम्मेदारी पंचायत अथवा राज्य सरकार की होगी।

बैंक भवन – अस्पताल के बाजू प्लाट पर एक बैंक भवन बनाकर पंचायत को सुपुर्द करना चाहते हैं। ये भवन पंचायत किसी भी बैंक को किराये पर दे कर बैंक भी सुविधा गांव वासियों को प्रदान कर सकती है।

पानी की सुविधा – गांव में सभी के पानी की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु टंकी का निर्माण कर के पाईप लाइन्स बिछाना चाहते है। पाइप लाइन का कार्य पूरा होने के बाद पानी की आपूर्ति और वितरण की सम्पूर्ण जिम्मेदारी पंचायत अथवा संबन्धित सरकारी विभाग भी रहेगी। किसी व्यक्ति परिवार या क्षेत्र में पानी की आपूर्ति नहीं अथवा कम होने की अवस्था में ट्रस्ट की कोई जिम्मेदारी नहीं रहेगी। इस सब कार्यों का सम्पूर्ण खर्च ट्रस्ट करेगा साथ ही इन सब कार्यों के लिये मिलनेवाली सहायता राशी एवं अन्य रियायत, सुविधा का सम्पूर्ण हक ट्रस्ट का रहेगा। पानी की टंकी के लिये ५ बीघा जमीन का आवंटन ट्रस्ट को किया जाये साथ ही समस्त निर्माण कार्यों के लिये आवश्यक भूमि का आबंटन तथा कानूनी दस्तावेज पट्टा और स्वीकृति ट्रस्ट के नाम से करायी जाये।  इन समस्त कार्यों और निर्माण पर ट्रस्ट अपने खर्चे से नाम पठ्ठ (तख्ती), फोटो, बोर्ड, मूर्ति लगाने का अधिकार रखती है। ट्रस्ट अपने खर्चे से समस्त कार्य अच्छे से अच्छा करवायेगा जिसमें आप सभी का और समस्त गाँव वासीयों का सहयोग अपेक्षित हैं। समस्त निर्माण कार्य पूर्ण होने के पश्चात उनकी उचित रखरखाव और संचालन की जिम्मेदारी आपकी रहेगी।