पोमावा / Pomava :अहमदाबाद-दिल्ली राष्ट्रीय महामार्ग पर पाली जिले के सुमेरपुर कस्बे...

पोमावा / Pomava :अहमदाबाद-दिल्ली राष्ट्रीय महामार्ग पर पाली जिले के सुमेरपुर कस्बे के निकट लगभग ५ कि.मी. की दूरी पर ‘पोमावा’ नामक एक छोटा-सा गांव बसा हुआ है।

SHARE

अहमदाबाद-दिल्ली राष्ट्रीय महामार्ग पर पाली जिले के सुमेरपुर कस्बे के निकट लगभग ५ कि.मी. की दूरी पर ‘पोमावा’ नामक एक छोटा-सा गांव बसा हुआ है। गांव में करीब १०० – १२५ जैन घरों की बस्ती है।

गांव में ‘श्री सुविधिनाथ स्वामीजी’ का प्राचीन मंदिर है। कालांतर में इस मंदिर का भव्य दिव्य जीर्णोद्धार व पुनरुद्धार वि. सं. २०६१, वैशाख सुदि १४, रविवार, दि. २२.५.२००५ को पावन महामहोत्सव के अवसर पर संपन्न हुआ। इस नौ दिवसीय महामहोत्सव में श्री शंखेश्वर पाशर्वनाथजी एवं मुनिसुव्रतस्वामीजी के जिनबिंबों की अंजनशलाका वैशाख सुदि ११ दि. २०.५.२००५ को एवं प्राण प्रतिष्ठा वैशाख सुदि १४ दि. २२.५.२००५ को मंगलमय संपन्न हुई। इसे प.पू. आचार्य श्री विजय नीतिसूरीश्वरजी  महाराज के समुदायवर्ती प.पू. आचार्य श्री विजय पद्मसूरीश्वरजी महाराज तथा प. पू. आचार्य विजय दानसूरीश्वरजी महाराज के समुदायवर्ती, प.पू. आचार्य श्री विजय कीर्तियशसूरीश्वरजी म.सा. की मंगलमंय निश्रा प्राप्त थी। आज यह शिखरबंध प्रासाद गांव में शोभायमान है।

वि.स. १९७७ अर्थात सन् १९२१ ई. में यहां ‘तेडा बावनी महोत्सव’ हुआ। यह महोत्सव श्रीमान शा. रतनचंदजी मनरूपजी द्वारा उनकी माताश्री वनीबाई व धर्मपत्नी खुमीबाई के बीसस्थानक ओली के समापन निमित्त करवाया गया। इस महोत्सव की विशालता एवं भव्यता के कारण पोमावा गांव गोडवाड में ही नहीं अपितु संपूर्ण मारवाड में प्रसिद्ध हुआ। गांव की निर्देशिका से प्राप्त जानकारी के अनुसार, महोत्सव में समस्त पट्टी के जैन समाज को आठ दिनों की नवकारशी का आमंत्रण दिया गया था।

इस महोत्सव में श्री शांतिसूरीश्वरजी महाराज (मांडोली वाले )पधारे थे। १८ वर्ष पश्चात आपश्री का पुन: पोमावा में आगमन हुआ। तब गावंवालों के परिजनों के मनोदशानुसार वि.सं. १९९५, वीर नि.सं. २४६५, सन् १९३९ ई. पौष सुदि ९ के शुभदिन श्री कुंथुनाथ प्रभु की प्रतिमाजी की स्थापना की गई। वि.सं. २००७ में प. हीरमुनिजी के हस्ते श्री दीपमुनिजी को दीक्षा प्रदान की गई।

गांव में ही हस्तीमलजी सिरोहिया परिवार द्वारा निर्मित पाठशाला एवं श्री मूलचंदजी राठौड़ परिवार द्वारा निर्मित प्राथमिक उपचार केंद्र चलाये जाते है| इसी प्रकार श्री छगनलालजी राठौड़ परिवार द्वारा पेयजल की टंकी का निर्माण हुआ है| श्री भबुतमलजी पालरेचा परिवार ने शमशानभूमि निर्माण में सहयोग दिया है|

सुविधाये : गाँव में मंदिर के पीछे न्यातिनोहरा है, जिसमे सामाजिक एवं धार्मिक कार्यक्रम संपन्न होते हैं। इसके समीप ही उपाश्रय है। धर्मशाला एवं भोजनशाला की व्यवस्था ‘पोमावा रॉयल ग्रुप’ देखता है।

मार्गदर्शन : यहां आने के लिए सुमेरपुर से सभी प्रकार के यातायात के साधन उपलब्ध है। यहां से जवाई बांध रेलवे स्टेशन १४ किमी. और जोधपुर हवाई अड्डा १५५ किमी. दूर है।

पेढी : श्री पोमावा श्वेतांबर मूर्तिपूजक जैन संघ मु. पो पोमावा-३०६९०२, वाया  सुमेरपुर, जिला पाली राजस्थान दूरभाष – ०२९३३ २५४१८६