‘समाज गौरव’ श्रीमान फुटरमलजी पुखराजजी परमार (रानी/भायंदर) का निधन

‘समाज गौरव’ श्रीमान फुटरमलजी पुखराजजी परमार (रानी/भायंदर) का निधन

SHARE
Futarmal Parmar
Futarmal Parmar

मुंबई। समस्त गोडवाड़ में, सामान्य से लेकर अनेक ख्याति प्राप्त व्यक्ति जिन्हें आदर सन्मान से देखते थे,आदर सन्मान देते थे,ऐसे विरले व्यक्तित्व के धनी आदरणीय श्री फुटरमलजी पुखराजजी परमार(रानी) का निधन समाज और जिनशासन के लिए अपूर्णीय क्षति है।

लगभग 100 से अधिक संस्थाओ में अध्यक्ष से लेकर साधारण कार्यकर्ता के रूप में आपने जो योगदान दिये है वे अद्भुत अतुलनीय रहेगे।

राजस्थान सरकार और कई संस्थाओ द्वारा सन्मानित श्री फुटरमलजी ने सदा ही ‘सादा जीवन उच्च विचार’ और सरल व्यवहार द्वारा जन जन के मन में घर बनाया।आप उन आदर्शवादी विरले व्यक्तियों में से थे जिन्होने संघर्ष द्वारा अपने दम और कड़ी मेहनत से समाज में कामयाबी और सफलता का मुकाम पाया।

गोडवाड़ की भूमि पर शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो श्री परमार को नहीं पहचानता होगा। आपका मिलनसार स्वभाव,आत्मीयता और सरलता हमें आज भी आपके करीब होने का एहसास कराती है। आपने अपने जीवन में समाज के हर क्षेत्र में ऐसे कार्य किये है जो मिसाल बन गए। आपकी सेवाओ को देखते हुये मिरा भाईन्दर महानगरपालिका ने भाईन्दर पश्चिम के साठफीट मार्ग स्थित सुदामानगर का नाम श्री फुटरमल पुखराज परमार मार्ग नाम पर करके राजस्थानी समाज का गौरव बढाया, तत्कालीन राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री श्री जगनाथ पहाडिय़ा के हाथो आप बाढ पिडीतो की सहायतार्थ धनराशी एकत्रित करने हेतू सम्मानित हुए, पाली जिला के कलेक्टर श्री कुलदीपजी रांका की सिफारीश पर आपको समाजसेवा के उत्कृष्ठ कार्यो हेतू राजस्थान सरकार द्धारा तत्कालीन स्वास्थयमंत्री द्धारा प्रशस्तीपत्र प्रदत किया गया, साथ ही अखिल भारतीय श्री राजेंद्र जैन नवयुवक परिषद् मुम्बई शाखा द्वारा आपको राष्ट्रसंत श्रीमद्विजय जयंतसेन्सुरीश्वरजी की पावन निश्रा में मोहनखेड़ा की पावन भूमि पर ‘समाजगौरव’ अलंकरण से सन्मानित किया गया।श्री रानीस्टेशन जैन संघ मुम्बई द्वारा फेन्टासीलेण्ड जोगेश्वरी मे स्नेहसम्मेलन दरम्यान भी ‘समाजगौरव’ की उपाधी से सम्मानित किऐ गए, थाणा की आवाज द्वारा गोडवाड गौरव सम्मान तथा रानी स्टेशन जैन संघ रानी द्धारा ‘संस्था समर्पित शुभचिन्तक’ सम्मान से नवाजे गऐ। गोडवाड की जाजम पर गोडवाड की राजधानी वरकाणा मे तीन बार सम्मानित किऐ गये।

आपने वरकाणा और विद्यावाड़ी जैसी अनगिनत संस्थाओ के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और ट्रस्टी के रूप में अपनी विश्वनीयता और निस्वार्थ सेवा का परचम लहराया।आपकी अध्यक्षता मे देश की श्रेष्ठ महिला शिक्षण संस्थान मरुधर बालिका विद्यापीठ विद्यावाडी मे कॉलेज का निर्माण हुआ। आपकी अध्यक्षता मे लाँयसक्लब रानी का नाम जोरदार चर्चा मे आया आपके कार्यकाल मे पाली जिले मे पहली मर्तबा व्यापक स्तर पर मोबाईल सर्जिकल कैम्प लगाया गया जिसमे सेकडो रोगियो की जाँच व शल्यचिकीत्सा की गई यही वजह है की आज समाज का हर व्यक्ति आपका नाम बड़े सम्मान और आदर से लेता है।।आपने अपने परिवार में सभी को व्यवहारिक गुणों का ज्ञान और तजुर्बा दिया है,जो आपके व्यक्ति विशेष के गुणो की पहचान कराता है।

जीवन भर संघर्ष करते हुए कर्तव्य की राहो पर कदम बढ़ाते आपने अपने जीवन को सार्थक किया।समाज ने आप जैसे अनमोल रत्न को खोया है।जिसकी भरपाई करना बहुत ही मुश्किल है।आपने अपनी जन्मभूमि और कर्म भूमि दोनों जगह तन मन और धन से योगदान दिए है। आपका नाम स्वर्ण अक्षरो में लिखा जायेगा।

आपके छ: पुत्र थे जिसमे से एक सुरेश परमार का निधन हो गया, शेष पाँच पुत्र संपतराज, प्रकाशचंद्र, विनोद कुमार, प्रदिप कुमार, ललित परमार और एक पुत्री, ललिता सुरेशजी राँका आज भी आप से प्रेरणा लेकर जीवन को धन्य बना रहे है।

आप को हार्दिक श्रद्धांजलि अर्पित करने हजारो लोग भाईन्दर स्थित राजस्थान हाँल मे एकत्रित हुए जिनमे मिरा-भाईन्दर की महापोर गीता जैन नगरसेवक रोहीदास पाटील भगवती शर्मा, सुरेश खंडेलवाल अशोक तिवारी शेलेष पाँडे मुन्नासिँह, ओमप्रकाश गाडोदिया, प्रतिभा पाटील, धनराज गाडोदिया, डाक्टर रमेश जैन, डाक्टर राजेन्द्र जैन, ध्रृवकिशोर पाटील भाजपा जिला अध्यक्ष हेमन्त म्हात्रे, पश्चिम मंडल अध्यक्ष रवि बी. जैन, उद्योगपति व सादडी जैन संघ के अध्यक्ष सेलो ग्रुप के श्री घिसूलालजी बदामिया, समाजसेवी वख्तावरमल रांका, विमल रांका, शताब्दी गौरव के प्रधान संपादक सिद्धराज लोढा, भरत कोठारी, रणवीर गेमावत, प्रदिप जैन, कांतीलाल बच्छावत, विनोद लोढा, राजेन्द्र एफ मंडलेचा सहित अनेक गणमान्य उपस्थित थे। उनकी अंतिम यात्रा मे भी लोगो का सैलाब उमड आया था जिसमे मिराभाईन्दर के विधायक नरेन्द्र मेहता, विद्यावाडी के पूर्व अध्यक्ष सोहनराज खंजाची, अंतराष्ट्रीय कवि लेखक गीतकार युगराज जैन कई नगरसेवक सम्मिलीत हुऐ।

शताब्दी गौरव परिवार प्रभु से प्रार्थना करता है कि आपको परमात्मा परमगति प्रदान करे। आप की जीवनयात्रा के पदचिन्हों पर चलकर नए युगों को निश्चित रूप से प्रेरणा मिलेंगी।