धर्म नगरी खिवांदी में मातुश्री हुलासीबाई रतनचंदजी शोभावत के जीवीत महोत्सव निमीत...

धर्म नगरी खिवांदी में मातुश्री हुलासीबाई रतनचंदजी शोभावत के जीवीत महोत्सव निमीत तीन दिवसीय भक्ति महोत्सव २९ जनवरी से

SHARE

खिवांदी। राजस्थान की गौरवशाली भूमी खिवांदी में गोडवाड़ भूषण, भोले बाबा आचार्य श्रीमद विजय जयानंद सूरीश्वरजी म.सा. की पावन निश्रा में मातुश्री हुलासी बाई रतनचंदजी शोभावत के जीवीत महोत्सव निमीत तीन दिवसीय परमात्मा भक्ति आयोजन २९ से ३१ जनवरी तक आयोजित किया गया है। जीवन में जीवित महोत्सव महत्वपूर्ण है। कि संसार आधि-व्याधि उपाधी से भरा है। शरीर परिवार पैसा सब अनित्य है संसार मे कर्म बंधन करने वाले अनेक महोत्सव होते हैं। किन्तु माता-पिता के ऋणों से मुक्ति दिलाने वालो ये अनुपम अवसर है। ऐसी ही सोच रखने वाले रतनचंदजी प्रतापचंदजी वल्दरीया शोभावत के पुत्र धीरज और जितेन्द्र शोभावत अपनी ममतामयी माताजी श्रीमती हुलासी बाई शोभावत एवं दादीसा छोगीबाई प्रतापमलजी शोभावत का जीवीत महोत्सव बडे ही धुम धाम व हर्षोल्लास के साथ करने जा रहे है।

hulasibai r दोनों ही भाई पिछले कई दिनों से इस महोत्सव को महामहोत्सव में तब्दील करने लिए जोर-शोर से जुटे हुए है। दोनों भाईयों ने बताया कि हमारे परिवार के लिए बहुत ही गर्व की बात है कि हमारी विनंती को मानते हुए पुज्य गुरुदेव ने अपनी निश्रा दी। हमने कोई बहुत अच्छे कार्य किये होंगे। जो हमें ऐसे गुरु और माता-पिता हमे मिले। महोत्सव की शुरुआत २९ जनवरी को सुबह ९ बजे गुरुवंत भगवतो का भव्य सोमेया से होगी। से होगी। उसके बाद पाश्र्व पद्मावती महापूजन एवं भक्तिभावना ३० जनवरी को मातृ-पितृ वंदना, भक्तामर पूजन, गांव सांझी, मेहंदी वितरण, कुमार पाल राजा द्वारा महाआरती, ओर मंदिर भावना ३१ जनवरी को गुरुदेव का व्याख्यान सिद्धचक्र महापूजन, भक्ति भावना आयोजित होगी। इसके अलावा अनेक धार्मिक आयोजन सम्पन्न होंगे। महोत्सव में चार चांद लगाने का कार्य विधिकार, विरलभाई, संगीतकार त्रिलोक भोजक, रोशनी रामदेव लाईट, मंडप सजावट, विनायक टेन्ट हाउस, स्वादिष्ट भोजन नमन केटरर्स, मंदिरजी की साज-सज्जा अल्केशभाई करेंगे। ये जीवीत महोत्सव महा महोत्सव बनेगा इसमें कोई शक नहीं है। मातुश्री की हुलासीबाई ने कहा कि में ऐसे पुत्रो को पाकर धन्य हो गयी। जिन्होंने ये सुंदर परमात्मा भक्ति का आयोजन रखा।