नाकोडा भैरवधाम पर महाभक्ति में उमड़ा भक्तों का जन सैलाब

नाकोडा भैरवधाम पर महाभक्ति में उमड़ा भक्तों का जन सैलाब

SHARE

मुंबई। राष्ट्रसंत आचार्य श्री चन्द्राननसागर सूरीश्वरजी म.सा की निश्रा में नाकोड़ा पाश्र्व भैरव महाभक्ति का आयोजन उल्लासमय वातावरण में नाकोडा धाम विरार में संपन्न हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्जवलन एवं आचार्य श्री चन्द्रानन सागरसूरीश्वरजी के नमस्कार महामंत्र से हुआ।

प्रेरणा पाथेय – उपसिथत जनमेदिनी को संबोधित करते हुए आचार्य श्री चन्द्रानन सागरसूरीश्वरजी म.सा. ने कहा कि श्रद्धा एवं समर्पण से प्रभु भक्ति होनी चाहीये। अर्जन के साथ विसर्जन जरूरी है। धर्म से विमुख होती युवा पीढी में भक्ति द्वारा नई उर्जा का संचार हो रहा है। नाकोडा धाम की गतिविधियों के बारे में कहा कि यहां तपोवन, वडील विश्राम गृह, स्कूल कॉलेज के लिये शीघ्र कार्य शुरू करने की प्रेरणा दी। भक्ति कराने वाले – अमिता प्रह्लाद नोलखा (अंधेरी), अनिता बेना रमेश बाफणा (गोराई) कविता -सुनील लोढा, संगीता रमेश पामेचा (कुंचोली), हिम्मत कच्छारा, पारसमल चोरडिया का उल्लेख करते हुए प्रेरणा देने वाली संगीता कच्छारा, आशा चोरडिया की सराहना की। मुख्य सहयोगी – शकुंतलाबेन, पुखराज, रेखा बेन कांतिलाल को आशीर्वाद दिया। दिनेश भाई तेलीसरा एवं अशोक बडाला द्वारा भक्ति किये गये योगदान की तारीफ की। मुख्य अतिथी राजस्थान सरकार के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया, मीरा भाईंदर के विधायक नरेन्द्र मेहता ने कहा कि भक्ति परमात्मा से सीधे तार जोड़ती है। स्वागत भाषण नाकोडा धाम अध्यक्ष कांतिभाई शाह एवं संचालन दिनेश तेलीसरा ने किया।

प्रभुभक्ति की रमझट – संगीतकार नरेन्द्र वाणीगोता, गायिका प्रेरणा भटनागर ने प्रभु भक्ति के रमझट लगाई। भैरूजीरा भोपा मजा करे एवं मोरलो को भरपूर दाद मिली। नरेन्द्रवाणी गोता ने भक्ति की है रात तथा आवणो पडेगा भेरूजी थारे नाकोडा धाम में लाग्यों है मेलों पर जमकर थिरके। चरणसिंग ने हवन संपादित करवाया। गरिमामयी उपस्थिति – अभिनेता आनंद गारोदिया (अर्जुन), अरविंद कुमार, नवल सुराणा, बाबूलाल राठौड़, ख्यालिलाल तांतेड़, केसी जैन, शंकर मेहता, पाश्र्वगायक रवि जैन, मदनलाल मुठलिया, महावीर संचेती, नाथुलाल चोरडिया, गणपतलाल चपलोत, राजू साभर, डा. विनोद सिरोहिया, दिनेश सुतरिया, बाबूलाल गेलड़ा, कैलाश बेताला एवं सहयोगियों का सम्मान ट्रस्ट अध्यक्ष कांतिभाई, सेक्रेटरी दिनेश जे. शाह, देवीचंद सतावत, पी.के.जैन. ललित जगावत, सुरेश जैन, विनोद खिमेसरा ने किया।