पशुसेवा में घाणेराव ने रचा इतिहास

पशुसेवा में घाणेराव ने रचा इतिहास

SHARE

घाणेराव। पशुसेवा में घाणेराव कस्बे ने पिछले दिनों इतिहास रच दिया, जब पशुओं के उत्थान के लिये यहां श्री गौशाला पांजरापोल में निर्मित शेडों तथा संभाग का प्रथम आधुनिक पशु चिकित्सालय का शुभारंभ हुआ। यहां पशु चिकित्सालय में सभी आधुनिक सुविधाओं से सभी प्रकार के पशुओं व पक्षियों का उपचार होगा। उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए गोडवाड के भामाशाहों ने कहा कि मूक पशुओं की सेवा करने का जो बीड़ा काठेर परिवार ने उठाया है, वह काबिले तारीफ है। जिन्होंने ऐसा आधुनिक पशु चिकित्सालय ग्रामीण क्षेत्र में बनवाया है। ऐसा पशु चिकित्सालय प्रदेश में कहीं नहीं होगा। कवि युगराज जैन ने कहा कि श्रीमती लीलाबेन मोहनराजजी काठेर परिवार द्वारा निर्मित पशु चिकित्सालय में सभी प्रकार के पशु-पक्षियों का उपचार होगा, जिससे मूक पशुओं का उत्थान भी होगा। पशुओं की सेवा करने का दायित्व उठाया है वह वर्षों तक याद रखा जायेगा। नागौर की विश्वविख्यात गौशाला के महाप्रबंधक एवं महामंडलेश्वर स्वामी कुशलगिरी महाराज ने कहा कि इस कलयुग में सतयुग जैसी सच्ची पशुसेवा का संकल्प लेकर श्रीमती लीलाबेन मोहनराजजी काठेर परिवार ने आधुनिक पशु चिकित्सालय का निर्माण करवाकर घाणेराव की भूमि को पशुलोक महातीर्थ बना दिया है। इस आधुनिक पशु चिकित्सालय में उपचार की सुविधाओं को देखकर लगा कि ऐसा पशु चिकित्सालय प्रदेश में कहीं भी देखने को नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि पशुओं की सेवा के लिये जो मदद भामाशाह परिवार चाहेगी, वह देने के लिये हमेशा तत्पर रहेंगे। इससे पूर्व अतिथियों ने विशेष मुहुर्त पर इस आधुनिक पशु चिकित्सालय का शुभारंभ किया। पशु चिकित्सालय में सुविधाओं को देख पशु पालकों के चेहरे खुशी से खिल उठें थे। इससे पूर्व समारोह में उपस्थित अतिथि महामंडलेश्वर स्वामी कुशलगिरी महाराज, गोडवाड भामाशाह कनकराज सावंतराजजी लोढा, पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव, गौशाला पांजरापोल अध्यक्ष जितेन्द्रकुमार कांतिलालजी पुनमिया, सचिव प्रवीण परमार, सरपंच श्रीमती संतोष चंद्रशेखर मेवाड़ा सहित अन्य अतिथियों का श्रीमती लीलाबेन मोहनराज चेरिटेबल ट्रस्ट घाणेराव के हुकमचंद जैन, अशोक जैन, संदीप जैन द्वारा बहुमान किया गया। इस अवसर पर अंकिता मिथिल कोठारी, प्रतीक हुकम काठेर, चास्मी अशोक काठेर, संदीप काठेर, साक्षी अशोक काठेर, पाश्र्व संदीप काठेर सहित ग्रामीण एवं जैन समाज के लोग उपस्थित थे। मंच संचालन ओम आचार्य व विनोद लोढा ने किया।