Shri Bamanwada Tirth :Nearly 75 Cms. high, Red -colored idol of Bhagawan...

    Shri Bamanwada Tirth :Nearly 75 Cms. high, Red -colored idol of Bhagawan Mahavir Swami in the Padmasana posture.

    SHARE

    श्री बामणवाडजी तीर्थ / Shri Bamanwada Tirth

    मूलनायक : श्री महावीर स्वामी भगवान, लालवर्ण।
    मार्गदर्शन : यह तीर्थ स्थान सिरोही रोड से 7 किलोमीटर तथा पिंडवाडा गांव से 8 किलोमीटर दूरी पर है। यहां से अजारी 12 कि.मी. तथा सिवेरा 10 कि.मी. दूर है। आबु रोड से सिरोही जाने वाली बसें बामणवाडजी होकर जाती हैं। स्टेशन सिरोही रोड से टैक्सी, बस, रिक्शा आदि साधन उपलब्ध रहते हैं।
    परिचय : ऐसा माना जाता है कि भगवान महावीर के कानों में कीलें ठोंकने का उपसर्ग यहीं पर हुआ था। यहां पर प्रभु की चरण पादुकाएं हैं। मंदिर में महावीर स्वामी भगवान के 27 भव के पट्ट संगेमरमर पत्थरों पर बनाया गया है। आचार्य श्री नागार्जुनसुरी जी, श्री स्कंदसूरीजी म.सा., श्री पादलिप्त सूरीजी एवं राजा संप्रति यहां पर नियमित रूप से दर्शनार्थ आते थे। इस तीर्थ पर श्रध्द एवं भक्ति के कारण सिरोही के राजा शिवसिंह को राजगद्दी मिली, इसलिए उन्होंने तीर्थ की रक्षा के लिए कुछ भूमि ताम्रपत्र पर लिखकर भेंट दी। विक्रम संवत् 1989 में श्री अ. भा. जैन श्वेतांबर पोरवाल सम्मेलन यहां पर योगीराज श्री विजय शांतिसूरीजी म.सा. की निश्रा से संपन्न हुआ था। मंदिर के नजदीक पहाय्ड पर श्री सम्मेतशिखर जी की रचना अत्यंत सुंदर ढंग से की गयी है। पूजा का समय प्रातः 10 बजे से 4 बजे तक है।
    ठहरने की व्यवस्था : यहां पर मंदिर के अहाते में विशाल सुविधायुक्त धर्मशाला तथा भोजनशाला है। भोजनशाला का समय 11 से 1 बजे तथा सायं 5 से 6 बजे का है।
    पेढ़ी : श्री कल्याणजी परमानंदजी पेढ़ी
    श्री बामणवाडजी तीर्थ, मु.पो. -वीरवाडा
    जि. सिरोही (राजस्थान) 307022