बाली तीर्थ/Shree Bali Tirth:Nearly 78 cms. high, white – colored idol of...

    बाली तीर्थ/Shree Bali Tirth:Nearly 78 cms. high, white – colored idol of Bhagawan Manmohan, Parshvanath in the Padmasan posture.

    SHARE

    बाली तीर्थ/Shree Bali Tirth

    बाली कस्बा गोडवाड़ क्षेत्र का हृदय स्थल है, यहां से गोडवाड़ के सभी तीर्थो को मार्ग जाते है इसलिए बाली भी तीर्थ बन गया है। बाली में दो बड़े जैन मंदिर है जिसमें कस्बे के बीचोबीच बाजार में स्थित श्री मनमोहन पार्श्वनाथ भगवान का मंदिर अधिक प्राचीन नहीं है लेकिन इसमें स्थापित प्रतिमा काफी प्राचीन है जिसपर सं. ११६१ का लेख उत्कीर्ण है। कहते है कि यह प्रतिमा बाली से फालना जाने वाली सड़क पर बसा श्री सेला गांव के तालाब से खुदाई करने पर प्राप्त हुई थी। प्रतिमा बड़ी ही चमत्कारी है। इसके बारे में चर्चा है कि अधिष्ठायक देव ने श्री गेमाजी श्रावक को स्वप्न में कहा कि सेला गांव के तालाब में पार्श्वप्रभु की प्राचीन प्रतिमा है जिसे यहां लाकर प्रतिष्ठित कर। स्वप्न के आधार पर तालाब की खुदाई में प्रतिमा स्थापन करने की थी, अन्तमें बाली और सेला के श्रावकों के बीच तय हुआ की इस प्रतिमा को बैलगांड़ी में रख दो और बैल जहां भी इस प्रतिमा को ले जायेगे वहां इस प्रतिमा को प्रतिष्ठित कर दिया जायेगा।

    बैल गाड़ी प्रभु प्रतिमा को लेकर बाली की ओर चली तो बीली में भव्य मंदिर का निर्माण करवा कर उसे स्थापित कर दिया गया। यह प्रतिमा संडेरगच्छीय आचार्य यशोभद्र सूरीश्वरजीके समय की होने का अनुमान है। बाली में दूसरा मंदिर श्री आदिश्वर भगवान का है जिसकी प्रतिष्ठा आचार्य हीरविजयसूरिश्वरजी के द्वारा करवाई गई है, कहते हैं कि पूर्व में इस मंदिर के मूलनायक शान्तिनाथ भगवान थे। और यह मंदिर लगभग दो हजार वर्ष पुराना राजा गंधर्वसेन के समयका है किन्तु बार बार जीर्णोद्धार के हजार वर्ष पुराना राजा गंधर्वसेन के समयका है किन्तु बार बार जीर्णोद्धार के कारण इस मंदिर की प्राचीन शिल्पकला समाप्त हो गई है। बाली के दोनो ही जैन मंदिर संगमरमर की आधुनिक कला से परिपूर्ण एवं भव्य है। बाली में यात्रियों के ठहरने के लिये धर्मशाला एवं भोजनशाला भी है। बाली पहुंचने के लिये फालना स्टेशन पर उतर कर बस तथा टेक्सी द्वारा सात कि.मी. की दूरी तय करके पहुंचा जा सकता है। बाली से चार कि.मी. दूर बाली-सेवाड़ी सड़क मार्ग पर बोया गांव में भी एक प्राचीन जैन मंदिर है।